विकाश, दिल्ली और शीला दीक्षित. एक हांडी में !!!

सोमवार, 5 जनवरी 2009

देश की राजधानी दिल्ली में शीला जी एक आयाम लेकर आयींदिल्ली में लगातार तीन बार जीत दर्ज कर इतिहास भी रचा और अपनी दमदार उपस्थिति के साथ भाजापा को बौना भी बनायाछोटे कद की शिला जी के आगे लंबे चौडे मल्होत्रा साहब बौने ही नही अपितु टींगे भी नजर आएमगर क्या ये लोकतंत्र के शुभता का पहचान है या तानाशाही और निरंकुशता की और बढ़ते कदम ?
इतिहास गवाह है की जब जब लगातार सत्ता एक ही हाथों में रही है तो शासक निरंकुश हो गया है, बंगाल से बेहतर उदाहरण नही हो सकता जिसने शिखर से शुन्यता वाम के कारण तय की है, मुंबई से पुर हमारे देश की आर्थिक राजधानी रहा कलकत्ता आज अपने आखिरी विराम की और बढ़ रहा है तो नि:संदेह वाम के कारण ही जिसने विकास के तमाम रास्ते बंद कर दिए और जब आँख खुली तो नानो भी गँवा दियाबिहार का लालू राज आज भी बिहार की प्रान्त की ध्वस्त हो चुकी विकास का कारण है

विगत दस सालों में सच में विकास जैसे नदियों के बाढ़ की तरह बही है, मेट्रो हो या उपरी पुल का जालसड़क हो या अवैध निर्माणझुग्गी हो या व्यवस्थिक कालोनी, बस शीला ही शीला और विकास ही विकास जैसे कि दिल्ली के विकास की बयार बह रही हो जिसका सुर में सुर मीडिया मुख्यमंत्री के साथ चाय की चुस्की लगा कर गा रही हो

याद आता है मुझे शीला जी का वो बयां जब उनसे ट्राफिक के बारे में पूछा गया था कि दिल्ली में जाम कि समस्या दिनानुदिन बढ़ रही है तो शीला जी का जवाब था कि दिल्ली तरक्की कर रही है लोग विकास कर रहें हैं तो लोगों के पास सुविधाएँ भी बढ़ रही हैये समस्या तो आना ही हैसच में दिल्ली बड़ी तरक्की कर रही है, जिनके पास मारुती ८०० था अब वो बड़ी वाली गाड़ी में हैं, जिनके पास एक कार था अब चार हैं, दो कमरे के फ्लैट से लोग चार कमरे में शिफ्ट हो गए हैं मगर क्या ये सही मायने में विकास है? क्या ये उच्च वर्ग के लोग ही विकास की दशा और दिशा निर्धारित करते हैं?

जरा नीचे की तस्वीर देखिये, ये भी दिल्ली के विकास में सहभागिता कर रहे हैंकुल्छे छोले वाला जिसका पुश्तैनी धंधा ये ठेला है बाप के बाद अब ये भी इसी ठेले पर है हाँ दाम दो रूपये कि जगह दस रूपये हो गए हैंचाय वाला दस साल से यहीं बिना छत के पेड़ के नीचे चाय बेच रहा है, बस चाय एक रूपये कि जगह चार रूपये पर पहुँची है और उसके साथ मूंगफली बेचने वाला जब से शीला जी मुख्यमंत्री बनी हैं मूंगफली बेच रहा है

विकसित दिल्ली की सहभागिता किसके साथ ? किसके लिए?

बस विकास उन लोगों की जो पहले से विकसित थे, हाँ पत्रकारों में जारूर जो पहले डी टी सी से कार्यालय जाया करते थे ने अपनी चौपाया ले ली है

जय विकास की
जय दिल्ली सरकार की
जय शीला दीक्षित की



3 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

हे भगवान रजनीश भाई ये कैसा विकास करा दिया शीला बाई ने कि पत्तरकार डी.टी.सी. की बस के बजाए चौपाये पर बैठ कर कार्यालय जा रहे हैं...क्या हर पत्तरकार को एक एक गदहा भेंट करा है शीला बाई ने चाटने-चूटने मे बदले में खुश होकर...
जय जय भड़ास

हिज(ड़ा) हाईनेस मनीषा ने कहा…

भाई क्या दिल्ली में शीला बाई ने हम लोगों के लिये कुछ करा है या हमारी जगह नेताओं और पत्रकारों ने घेर रखी है:)
जय जय भड़ास

Ghufran ने कहा…

रजनीश भाई क्या बात है सही कहा अपने विकास सीमा कौन लोग निर्धारित करते हैं आपसे बहोत प्रभावित हूँ इंशा अल्लाह जल्दी मिलूँगा तब तक आइना दिखाते रहिये भडास मिटाते रहिये ........

आपका हमवतन भाई ........गुफरान......(ghufran.j@gmail.com)

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP