दोस्तों पर शक करना जायज है

शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2009

दोस्तों पर शक करना जायज है
वक्त का ऐसा मुकाम आया
देख क्या तेरी परछाईं तेरे साथ है
मेरे दोस्त का आज पैगाम आया


वक्त के हाथों पर छाले पडे है
हर जान के लाले पडे है
अमन चैन की बातें बेमानी हो गयीं
आज हिटलिस्ट में तेरा नाम आया

मुहब्बत के खुशबुदार फुल झर चुके है
मेरी जिंदगी का विरान शाम आया
सुनहली छटा है सुरज अस्त होने का
एक दिन और जीने का इल्जाम आया

मचलती साकियों को ना देख यूं शौक से
तन पर कफन चेहरे पर बस नुर आया
जब तक जरूरत साथ रह लेते है
रिश्तों का यह नया दस्तुर आया

2 टिप्पणियाँ:

रम्भा हसन ने कहा…

देख क्या तेरी परछाईं तेरे साथ है
बहुत खूब लिखा है भाई
सुंदर और गहरा भाव है साथ ही प्रखर अभिव्यक्ति..
जय जय भड़ास

Abhishek ने कहा…

धन्यवाद रम्भा जी आपकी टिपण्णी निश्चित रूप से उत्साहवर्द्धक है. आगे भी आशीर्वाद की अपेक्षा रहेगी

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP