व्योम श्रीवास्तव के नाम से लिखने वाले संजय सेन की गलीज हरकत से शर्मसार हुई देश की "वर्किंग वूमन"

मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

व्योम श्रीवास्तव के नाम से लिखने वाला गलीज़ संजय सेन सागर नाम का आदमी पता नहीं किस देश मे करे गये किनके द्वारा करे गये सर्वे रिपोर्ट को आधार बना कर भारतीय स्त्रियों को भी लज्जित करने के लिये अर्धनग्न तस्वीरें प्रकाशित कर के उसी के जैसे कुंठित लोगों को आकर्षित करने का टोटका अपना रहा है। ये कमीना बताये कि किस कार्यालय में महिलाएं ऐसे कपड़े पहन कर जाती हैं मैं तो मुंबई जैसे आधुनिक शहर में ही पैदा हुई हूं मैने आजतक किसी "वर्किंग वूमन" को ऐसे कपड़ों में आफ़िस जाते नहीं देखा ये क्या इसने सागर में कराया सर्वे प्रकाशित करा है या खुद आस्ट्रेलिया या अमेरिका का रहने वाला है? इन जैसे नीच लोगों को बस स्त्री देह की नग्न या अर्धनग्न कामुक तस्वीरें विदेशी वेबसाइट्स से उठा कर किसी भी मक्कारी भरे विमर्श की आड़ में प्रकाशित करने का बहाना चाहिये। इसे अपनी मां-बहनों और घर की स्त्रियों से भी सलाह ले लेना चाहिए ताकि पता चल जाए कि वे इस तरह की निर्लज्ज सोच के बारे में क्या राय रखती हैं। वैसे तो मैं कभी न कहूंगी कि आप खुद ही अपने आपको देश का दर्द,सिरदर्द और नासूर स्वीकारने वाले इस कमीने के कुंठाग्रस्त पेज पर मैं तो एक एग्रीगेटर के द्वारा इसके कमीनेपन को देख सकी आप खु द ही जाएं लेकिन मै न तो उस गंदी तस्वीर को इधर लाउंगी न ही वो कमीनेपन से भरी रिपोर्ट की प्रति इस लिये आप खुद उस गलीजघर में एक नजर मार कर इसका सुअरपन देख लीजिये और जानिए कि ये कितना रीढ़विहीन आदमीनुमा दरिंदा है। देखिये इस सुअर की करतूत क्यों कोई संस्था ऐसे नीच लोगों को कानूनी दायरे में लेकर रगड़ती नहीं है?
जय जय भड़ास

7 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

बहन जी क्यों बेकार में इस गन्दे आदमी को प्रसिद्धि दिलाए जा रही हैं सब जानते हैं कि ये एक अत्यंत ही कुंठित और दिमागी मरीज है
जय जय भड़ास

दिव्या रूपेश ने कहा…

ये कमीना था, है और रहने वाला है कुछ लोगों का मानसिक स्तर इस स्थान पर आकर सैचुरेट हो जाता है वो इससे आगे सोच ही नहीं सकते इसलिये इस सुअर को चर्चा से ही निकाल दीजिये।
जय जय भड़ास

vyom srivastava ने कहा…

aapko kal iska saboot bhi mil jayega..kyon bekaar ka muh chalat eho yaar! meri jagah kisi aur ko gali dete ho usne to tum logon ke chkaar me mujhe likhne se hi man kar diya..khair kal ek post jarur dallonga.padna phir kahna koun sahi kon galat!
kutton !!!

MARKANDEY RAI ने कहा…

aise log sasti lokpriyata pana chahte hai. we can neglect them.

अजय मोहन ने कहा…

क्या बात है संजय सेन???? आखिर भड़ास ने तुम्हारी लंगोटी खींच कर तुम्हें मजबूर कर दिया कि तुम अपना नंगापन यहां भी दिखाओ। हमें तुम्हारी पोस्ट का इंतजार रहेगा सुअर के पिल्ले....।
जय जय भड़ास

janane_ka_hak ने कहा…

wah sanjay... mujhe koi aashcharya na h... tumhare jaise ochhi soch walo ki kami na h.... jara hame b bata do konsi website h jaha ye sab de rakha hai.. agra se hu juto ka order de duga kal.... chamade k majbut jute saste me mil jate hain yaha..
bhai logo apna apna order book kara do kal tak...

janane_ka_hak ने कहा…

vyom srivastav, is tarah ki harakato se media walo ka nam kharab hota h...
plz un par daya kijiye...

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP