ट्रेन एक्सीडेंट

मंगलवार, 10 मार्च 2009

क्यो हटे है ये वाकये , कुछ सोचो दोस्तों

4 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

अब तक कई सौ ऐसे एक्सीडेंट देख चुका हूं,जख्मियों को अस्पताल ले जाते तक दम तोड़ते देखा है मुंबई में लोकल ट्रेन जीवन रेखा तो है लेकिन कुछ लोग मजबूरी में कभी-कभी उस पार चले जाते हैं और.....
कभी वीडियो शूट करने की क्रूरता नहीं कर पाया।
जय जय भड़ास

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

ये विडियो मुझे youtube पर मिला ,मै आप सब के लिए ले आया

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

भाई,
मुंबई की ये हकीकत है मगर इस हकीकत के पीछे की सचाई सिर्फ रोटी है,
रोटी के लिए सस्ती होती जिन्दगी,
ये ही हकीकत है.

Vivek ने कहा…

dost is video ne rongte khade kar diye wakai shocking video hai. thanks
is video ko dekh kar aane waale samay mein shayad kuch log zaroor aisa karne se parhez karenge.

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP