भारत स्वतंत्र हुआ चंद लोगों की गुलामी के लिए!!!!

मंगलवार, 3 मार्च 2009

भारत को स्वतंत्रता तो 1947 में ही मिल गयी पर इस स्वतंत्रता का उपयोग किसने और किस रूप में किया, यह विचारणीय प्रश्न है। क्या सच में यह स्वतंत्रता आम जनता को मिली? क्या जनता अपनी स्वतंत्रता का उपयोग कर पा रही है? यह एक जटिल प्रश्न है और इसका जवाब और भी जटिल है। भारत के संविधान के अनुसार यह एक स्वतंत्र राष्ट्र है। इसका एक स्पष्ट संविधान है। पर क्या एक अधिनियम, एक बिल या कागज के एक पन्ने पर लिख देने से स्वतंत्रता की प्राप्ति संभव है। अगर आपका जवाब हां है तो आप हमें बताये कि कितनी स्वतंत्रता प्राप्त है आपको? बताये क्या आप स्वतंत्र है राजनीतिज्ञों के द्वारा किये जा रहे घोटालों के बारे में जानने के लिये? क्या आपको स्वतंत्रता प्राप्त है जानने का कि संसद में जनहित की कितनी बातें होती हैं?....
आगे पढ़े

2 टिप्पणियाँ:

मुनेन्द्र सोनी ने कहा…

अभिषेक बाबू आप तो गुरूघंटाल आदमी निकले सीधे कन्नी काट कर खड़े हो गये डा.साहब पर लगाये आरोप का जवाब तक नहीं दिया जबकि तमाम लोगों ने आपसे सीधे ही इस विषय पर कहा था। ये क्या मुखौटा है मेरे भाई हमें भी तो समझाइये....
जय जय भड़ास

Abhishek ने कहा…

आप बैठ कर माला जपते रहिये आरोपों का. वह उस समय भी कह दिया गया था कि गलतफहमी में हुआ था. आप माला जपिए मुझे जो करना है करूँगा...

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP