मीडिया का दोगलापन फ़िर से, हेडेन आउट मीडिया चुप. (अतीत के पन्ने से.........)

मंगलवार, 5 मई 2009



इनसे मिलिए ये हैं आस्ट्रेलिया के धुरंधर मैथ्यू हेडेन, ये वो बल्लेबाज हैं जो भारत के लिए भारतीय सरजमीं पर हमेशा परेशान करते रहे हैं। इस बार भी भारतीय खेमा जिनको लेकर चिंतित था उनमे इनका नाम सबसे पहला था, बहरहाल पहला टेस्ट शुरू हुआ और जहीर के पहले ओवर में ही पकिस्तान के असद रउफ ने धोनी के हाथों इन्हें कैच आउट करार दिया। टी वी में देखने के बाद साफ़ पता चला की गेंद ने बल्ले का किनारा नही लिया था मगर अंपायर का निर्णय सर्वमान्य सो हेडेन पैवेलियन में थे।


प्रश्न यहाँ ये नही है की क्या हुआ कैसे हुआ और क्योँ हुआ क्यूंकि ये खेल का हिस्सा मात्र है जहाँ निर्णयदाता का निर्णय सर्वमान्य होता है। मगर हम अभी भी वो वाक्य भूले नही हैं जब वेस्टइंडीज के बकनर के ख़िलाफ़ मीडिया ने पक्षपात का मुहीम चलाया था और अन्तोगत्वा बकनर को भारतीय श्रृंखला के अम्पाइरिंग से अलग कर दिया गया था, एक भारतीय के ग़लत आउट देने पर मीडिया का ब्रेकिंग न्यूज़ और पहले पन्ने का बॉक्स दर्शनीय था, मगर कल उसी मीडिया के किसी पन्ने पर हेडेन की घटना का कोई जिक्र नही, तो क्या ये मीडिया का निष्पक्ष रवैया था या फ़िर खेल में हस्तक्षेप।


बहरहाल जिस प्रकार मीडिया हरेक कार्य में घुस कर सनसनी को लोगों में मुद्दा बनती है सोचनीय है और आने वाले दिनों में चिंताजनक भी, चाहे राजनीति हो या सामाजिक विषय या फ़िर अपराध अपनी खोज ख़बर और रपट पर निर्णय सुनानेवाली मीडिया क्या हमारे समाज की आवाज बनने मेनaपना योगदान दे रहा है। या फ़िर सिर्फ़ ख़बरों के माध्यम सी समाज मेन संदेश के बहने बेचने की आपाधापी।


आज भले ही हेडेन का मामला मीडिया में ना हो मगर चिंताजनक तो है की हम आउट तो बेईमान अंपायर पड़ोसी आउट तो बस आउट।


2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

अरे नौटंकी के बहुरूपिए यहां भी आ गए अपना टिप्पणी का टोटका आजमाने,हिंदी ब्लागिंग में टिप्प्णीकारों के गिरोह हैं ये कहना है डा.सुभाष भदौरिया जी का और ये वही टीम है जिसे लगता है कि भड़ासी भी इनकी तरह नाटक करते हैं अरे हम जिंदगी जीते हैं भड़ास हमारा जीवन दर्शन है। भड़ास पर तुम्हारे जैसे लोगों को मुखौटा खींच कर सही चेहरे तक ले आया जाता है ये पता है न? लिंक दे कर टिप्पणी का टोटका भड़ासियों पर नहीं चलता यार क्या अब तक भड़ास के बारे में कोई गलतफ़हमी आपके साइंटिफ़िक दिमाग में है या दूर करने का जतन करा जाए
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP