फिसड्डी तहलका, पुरानी शराब नयी बोतल में.(अतीत के पन्ने से........)

शनिवार, 9 मई 2009

तहलका यानी की तरुण तेजपाल, अपने नए कलेवर के साथ हिन्दी में लोगों के सामने है, शिद्दतों से लोगों की आस इस महीने पुरी हुई, मगर प्रश्न तहलका देखने के बाद कि क्या आस पर तरुण खरे उतरे ?



तहलका समाचार के पहले अंक का कलेवर।



पत्रिका को हाथ में उठाते ही सबसे पहली नजर वापस गोधरा की याद दिलाती हुई, तेजपाल वापस तो आए, नए अंदाज के साथ भी मगर पत्रिका को देखने के बाद बस नए बोतल में पुरानी शराब से ज्यादा नही। लेखकों में प्रभाष जोशी, मंगेश डबराल, हरिवंश, प्रसून जोशी और अशोक चक्रधर को शामिल कर पत्रिका को मजबूती देने की कोशिश भी इन मजबूत लेखक के कमजोर लेख पत्रिका के पहले संस्करण पर शाख को बट्टा लगते से प्रतीत हो रहे हैं। अपने सम्पादकीय में तरुण का "कश्ती नई,सफर वही" की स्वीकोरोक्ती जरुर प्रशंसनीय है, परन्तु बाकी के सम्मानित लेखक नए विचार के बजाये अपने पुराने बीन के साथ ही नजर आ रहे हैं जिसने पत्रिका के प्रभाव को और कमजोर किया है।


गोधरा के बहाने पत्रिका बेचने की कवायद, तहलका टाँय टाँय फिस्स


तहलका ने अपने आवरण कथा को गोधरा और उसके बाद हुए दंगे पर केंद्रित रखा है, आज जब सारा हिन्दुस्तान आतंक की कसौटी पर है, कौम का बंटाधार इस सर्वधर्म समभाव वाले देश में धड़ल्ले से देश के कर्णधारों की सहमती से मीडिया की देख रेख में हो रहा है, पत्रिका का वापस उसी मुद्दे को लेकर सामने आना टी आर पी के तर्ज पर देश की एकता को ताक पर रख कर पुराने घाव कुरेद बेचने की कवायद से ज्यादा नही लगती है।



पत्रकारिता के विपरीत तस्वीर पत्रिका पर प्रश्नचिन्ह लगाती है।


गोधरा, उसके बाद की घटना और नानावती आयोग की रिपोर्ट को जिस सनसनीखेज तरीके से पेश कर तहलका करने की कोशिश की गयी है, आज के वर्तमान परिपेक्ष में लोगों के घाव को कुरेदने का नुस्खा से ज्यादा नही लगता, बाजारवाद की शिकार भारतीय अर्थव्यवस्था में जिस तरह से खबरिया चैनल भुनाने की प्रवृति का शिकार है कमोबेश उसी से उत्प्रेरित तेजपाल की ये पत्रिका लगती है, बाढ़ से तहसनहस बिहार बंगाल उडीसा में बाढोपरांत अन्न अन्न को तरसते लोग, दूध को तरसते नन्हे बच्चे, महिलाओं की आबरू को बचाने के लिए अपर्याप्त वस्त्र, बिमारी और महामारी के शिकार लाखो भारतीय और इनके नाम पर करोडो की उगाही कर रही एन जी ओ और सरकारी तंत्र की नि:श्क्रियता तेजपाल के तहलका का हिस्सा नही रहे।


सम्पूर्ण पत्रिका को देखने के बाद ये तहलका कम और बेस्वाद मसाला ज्यादा लगता है।


1 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

याद है न बच्चे कि भाई जे.पी. ने "बेहया" पर लिखा था एक बार..
नाचो खूब नचाओ रंभा
चोंथो चोंथो चौथा खंभा...
इसे कहते हैं चौथे खंभे को चोंथना जो कि ये भी कर रहे हैं जो कि सभी कर रहे हैं इसमें भला लालाजी को क्या बुराई नजर आयेगी, जो बिकता है वही तो बेंचेंगे
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP