अमेरिकी खैरात के दम पर युद्ध की तैयारी

मंगलवार, 9 जून 2009

=>ये लो, खैरात । हमारी आदत है कि पहले अपनी कुटिल नीतियों से किसी देश को भिखारी बना देते हैं, फिर उसे कपड़े, लत्तों, खाने-पीने, दवाई-दारू और छत के लिए भीख देते रहते हैं, ताकि वह कभी अपने पैरों पर दुबारा न खड़ा हो सके और हमेशा हमारे दरवाजे का वफादार कुत्ता बना रहे ।







=>शुक्रिया, शुक्रिया । बड़ी मेहरबानी आपकी । परवरदिगार आपके खज़ाने भरपूर रखे ।








=>जनरल । ये लो डालर । जाकर इन से आला दर्जे़ के टैंक, मिसाइल और लड़ाकू जहाज खरीदो । हमने बहुत पहले कसम खाई थी कि भले ही हमें घास की रोटियां खानी पड़े लेकिन हम एक हजार साल तक भारत से लड़ते रहेंगे । गरीब और भुखमरे पाकिस्तानियों को कपड़े, दवाईयों और छत की कतई जरूरत नहीं हैं । अगर इनको ये सब चीजें मुहैया करा दीं तो कम्बख्तों को इनकी आदत पड़ जायेगी । पहले कश्मीर बाद में कुछ और ।


(हाल ही में प्रकाशित हुई पैंटागन की एक रिपोर्ट के अनुसार बुश सरकार द्वारा पाकिस्तान को दी गई असैन्य सहायता को पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ाने में लगाया था । हैरान करने वाली बात यह है कि यह सब जानते बूझते हुए भी कुछ दिन पहले ओबामा सरकार ने पाकिस्तान की असैन्य सहायता संसद में प्रस्ताव पारित करके तीन गुनी कर दी ।)

1 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

शत-प्रतिशत सत्य है और इस आलेख को पढ़ कर शायद कुछ लोग भी अगर अपनी विचारधारा को आपके साथ जोड़ सके तो भड़ास के अस्तित्व की सार्थकता सिद्ध हो जाए
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP