मैं मानता हूं कि दैवीय और राक्षसी प्रव्रत्ति का मिश्रण ही तो है मनुष्य.....

शुक्रवार, 12 जून 2009

आत्मन अनूप मंडल से करबद्ध निवेदन है कि अमित जी ने आपके समक्ष जो बातें रखी हैं उन्हें व्यवहारिक तरीके से यदि सामने लायी जाएं तो ये एक अत्युत्तम विकल्प है। आप इस बात का स्पष्टीकरण अवश्य करें कि आपने जिन शब्दों के आपत्तिजनक अर्थ बताए हैं उनका आधार कौन सा शब्दकोश है और किसने लिखा व कहां से प्रकाशित हुआ है। यदि आपके अनुसार जैन फेरबदल करवाने में माहिर हैं और शब्दकोशों के शब्दों में हेराफेरी कर देते हैं तो इस बारे में ठोस प्रमाण भड़ास के मंच पर लाइये ताकि आपकी बात की पुष्टि हो सके। भाषा व उसके व्याकरण में उलझ कर मुख्य मुद्दा जिसमें कहा गया था कि जैन राक्षस होते हैं वो तो कहीं गुम होता प्रतीत हो रहा है। मेहरबानी करके सभी बातों को क्रमबद्ध तरीके से प्रस्तुत करें। ये अवश्य ध्यान रखिये के आपकी लिखी हुई कोई भी बात भड़ास के वैश्विक मंच के द्वारा पूरी दुनिया में पहुंच जाती है यदि कहीं भी कोई ढीलापन रहा तो विमर्श लड़खड़ा जाता है। निजी तौर पर मैं मानता हूं कि दैवीय और राक्षसी प्रव्रत्ति का मिश्रण ही तो है मनुष्य। अब आप क्या बताना चाहते हैं, क्या राक्षस कोई विशेष प्रजाति है अथवा दुष्ट सोच के मानव? यदि दुष्ट मानव ही दानव या राक्षस हैं तो ये सिर्फ़ जैन ही क्या हर समुदाय में मिल जाएंगे बल्कि ज्यादातर तो इन्ही की भरमार है। शायद मेरे भीतर भी कहीं न कहीं एक राक्षस खामोश बैठा रहता है जो पता नहीं कब किन परिस्थितियों में बाहर निकल आएगा। आप दोनों के स्पष्ट आलेखों का इंतजार है मात्र शब्द-प्रपंच से बचें।
जय जय भड़ास

1 टिप्पणियाँ:

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

मुनेन्द्र भाई सहमति है आपसे.....
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP