मेरी दिली महान - सारे बच्चे हो काहे परेशान

शुक्रवार, 26 जून 2009

2 टिप्पणियाँ:

अजय मोहन ने कहा…

क्या ये बच्चे सर्कस में भाग लेने का अभ्यास कर रहे हैं या रोजाना ऐसा ही होता है। मुझे तो रिक्शे वाले पर दया आ रही है उसकी तो फट ही जाती होगी इन फूल से बच्चों का वजन खींच कर :)
जय जय भड़ास

Desi Chaupal of David ने कहा…

this is not a ordaniry rishkaw it is one type of tanga which pulled by a Man, Generally it used in Culkatta

David

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP