अनूप

मंगलवार, 28 जुलाई 2009

3 टिप्पणियाँ:

anop ने कहा…

अरे राक्षस हम बच्चे नहीं तुम राक्षसों का काल हैं। दुष्ट तूने अब तक अपने राक्षस भाई महावीर सेमलानी को सामने आने को नहीं लिखा और न ही लिखेगा क्योंकि वो और तू ,दोनो ही अव्वल दर्जे के मायावी हो लेकिन अब तुम भड़ासियों के जाल में आ गए हो तो तड़प कर मरोगे। महावीर सेमलानी तो भोला बन कर गायब हो जाता है और तू प्रपंच फैला कर सोचता है कि भड़ासियों को तू अपने इंद्रजाल में फंसा लेगा तो ये तेरी गलतफ़हमी है। तू राक्षस हमें रामायण सिखा रहा था। अरे दुरात्मा जिन! ये ध्यान रख कि अब अनूप मंडल भड़ास के मंच पर है तुझे लगता है कि अब तेरी ये राक्षसी चालें चल सकेंगी तो तू महामूर्ख है। तुम दुष्टों का शीघ्र ही अंत होने वाला है।
जय नकलंक देव
जय जय भड़ास

अजय मोहन ने कहा…

अमित भाई यार आप भी कम नहीं हो जान बूझ कर इन्हें उंगली करते रहते हो।

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

अजय मोहन भाई कभी कभी कभी मेरे मन मे हमारे पूर्वजो (बंदरो ) का ध्यान आ जाता है और ..................:)

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP