आई आई एम् सी विवाद : बड़े बड़े बच्चे अपने आप बदल जायेंगे : माधवी श्री

शुक्रवार, 25 सितंबर 2009

आज कल आई आई एम् सी के नाम पर विवादों का पिटारा खोला जा रहा है, व्यवसायिकता ब्लॉग और वेब पर हावी होती जा रही है टी आर पी की तरह अपने वेप के पन्ने को हिट कराने के लिए नए नए शिगूफे जो निशंदेह हमारे समाज के लिए नुकसानदेह है।

माधवी श्री पत्रकारिता से जुड़ी हुई हैं और महिला पत्रकार संगठन से भी संग ही विभिन्न ब्लोगों के माध्यम से भी अपनी राय रखती रहती हैं। बकबक, आई ऍम एन इंडियन, वूमन ओनली वूमन, के अलावे और भी कई ब्लोगों पर लिखती हैं।

अपनी बेबाकी के लिए मशहूर माधवी ने कुछ लोगों के द्वारा फैलाये जा रहे तथाकथित आई आई एम् सी के अफवाहों और छात्रों की शिकायतों पर अपनी बेबाक राय रखी है। उन्ही के शब्दों में.......


आई आई एम् सी में जो अभी विवाद चल रहा है उसे देखकर दो -तीन चीजे मूलरूप से सामने आ रही है -१) बच्चो (छात्रों- छात्राए ) में यह गुस्सा है कि जिनेह उचित मौका मिलना चाहिए था उनेह नहीं मिला ,दूसरा उनके शिकायत और पीडा बहुत गहरी है। जनतंत्र में बहुत जरूरी है कि हम इस तरह से व्यहवार करे कि दूसरो को अघात न लगे . यह हो सकता है कि एक शि्क्षक को अपने छात्र की क्षमता का अंदाजा हो बेहतर, पर शि्क्षक भी तो इन्सान है .इसलिए उसे बहुत पारदर्शी तरीके से काम करना चाहिए. आई आई एम् सी में प्राय सभी छात्र बुद्धिमान होते है ,इसलिए उनेह बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता आसानी से . उनको पूरी स्वतंत्रता देनी चाहिए परीक्षा में बैठने के लिए.अगर वो पास होते है तो ठीक है वरना कम से कम टीचर दोषारोपण से तो बच जाये गा .

ओर अगर टीचर को लगता है कि छात्रों में कुछ कमी है तो उनेह प्यार से समझाए या अपना पक्ष रखे । या उनकी तमाम कमजोर बिन्दुओ से उनेह अवगत कराये ताकि वे उन पर काम कर के उसे सुधार सके. इतने बड़े संसथान में छात्रों की इम्प्रूवमेंट की गुन्जाईस तो होनी ही चाहिए.

एक बात और बच्चे भाषण नहीं उदाहरण या आप का आचरण देख कर जल्दी सीखते है । यह माता- पिता या शिक्षक तीनो के सन्दर्भ में सही है.

बदलते समय के साथ हमे उनको (बच्चो) भी समझना होगा और उनकी बदलती भाषा को भी ........

चूकि मामले कि पूरी जानकारी नहीं है इसलिए किसी पर दोषारोपण नहीं कर रही हू । बस अपनी बात रखने कि कोशिश है कि हम बडो का दायित्वा बहुत बड़ा है आने वाली पीढी के लिए ...हमे खुद को अपनी अग्रज पीढी को कोस्ते हुए समय नहीं गवाना है ....





1 टिप्पणियाँ:

Pawan Kumar ने कहा…

main aapki baat se sehmat hu madhwi

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP