उर्दू दैनिक इंकलाब की विज्ञापन नीति

सोमवार, 5 अक्तूबर 2009

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि विज्ञापन व्यापार का साधन है। लेकिन ये भी बात किसी समाचार पत्र,पत्रिका के नीतिगत आदर्शों को दर्शाती है कि किस तरह के विज्ञापन स्वीकार करे जा रहे हैं। इस नीति से ये भी साफ़ पता चलता है कि क्या सचमुच कोई सामाजिक सरोकार है या मात्र लालची लालाजी की दुकान है। यदि किसी स्वास्थ्य पत्रिका में सिगरेट, शराब, गुटका आदि के विज्ञापन धड़ल्ले से छप रहे हों तो आप क्या सोचेंगे????
प्रस्तुत है एक ज्वलंत नमूना मुंबई से प्रकाशित होने वाले एक उर्दू दैनिक का, जो कि अपनी विज्ञापन नीति से जो संदेश अपने पाठकों को दे रहा है वह कुछ इस तरह है कि यदि इंकलाब लाना है तो दिन की शुरूआत कैसे करें और दिन का अंत रात में कैसे करें। अखबार का नाम है इंकलाब यानि कि क्रांति प्रेरित परिवर्तन जो कि भड़ास कुंठित और पगलाए बौराए नजरिए से देखने पर दिखता है कि उर्दू पाठकों यदि देश और समाज में क्रान्ति लानी है तो पहले "लिप्टन चाय" से मिलते-जुलते नाम वाली एक सस्ती चाय पीजिये बस इंकलाब शुरू हो गया पहले अक्षर "अलिफ़" के साथ और मर्दाना ताकत के लिये पुरुषांग में तेल लगा कर रात्रि के कार्य को पुरसुकून अंजाम देते हुए उर्दू के अक्षर "बे" केसाथ इंकलाब को अंजाम तक पहुंचा दीजिये। अगले दिन का जीवन इसी तरह से फिर जीने के लिये। धन्य हैं ऐसे प्रकाशक और सम्पादक.......
जय जय भड़ास

4 टिप्पणियाँ:

Chhaya ने कहा…

very keen observation ... kinda hilaious, the masthed of the newpaper :)

PS: hvnt heard from u at my blog for a long time now.. do drop by

गुफरान सिद्दीकी ने कहा…

ये मुंबई के ही अख़बारों की करतूत नहीं ऐसा तो हर वो खबरिया माध्यम कर रहा है जो अपने आपको नंबर एक बोलता है और ये तो बेचारे अपनी दाल रोटी चला रहे हैं जहाँ तक बात इन्किलाब की है तो ये तो पिछले ६२ सालों से चला आ रहा है पर अब लगता है आपकी नज़र ज़रूर लग जायेगी.
हाँ आपकी मेल अभी मिली नहीं मुझे.

आपका हमवतन भाई गुफरान.

Aftab ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Aftab ने कहा…

छाया जी, आपकी भाषा मे करी गई तारीफ़ भी समझ मे आना मुश्किल है :)

गुफरान भाई, ये इस नीति से दाल रोटी नही बल्कि दारु मुर्गा चला रहे है! और हमारी नजर उनके दारु मुर्गे पर है!

जय जय भड़ास!

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP