अयोध्या से जारी हुआ फतवा, संत करेंगे तांडव

सोमवार, 2 नवंबर 2009



जगद्गुरु रामभद्राचार्य को संत समाज ने अल्टीमेटम दिया है,मुद्दा था नई रामायण का जिसको अभी हाल ही में चित्रकूट के तुलसी पीठाधीश्वर जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने लिखी है देश के प्रमुख धर्माचार्यों और अयोध्या के संत समाज ने राम भद्राचार्य को धर्म सभा के माध्यम से चेतावनी देते हुए कहा की अगर वह सलमान रुश्दी जैसा लेखक बनने की कोशिश करेंगे तो संत तांडव करेंगे।
रामभद्राचार्य के नंदीग्राम में होने वाले कार्यक्रम को रोकने के लिए फतवा जारी किया गया है. लेकिन जो बात समझ से परे है वो ये की फतवों पर हाय तौबा मचाने वाले तथाकथित देशभक्त संगठन चुप्पी क्यों साधे हैं क्या उनको ये डर है की कहीं उनके खिलाफ भी तो संत फतवा न जारी कर दें.अभी तक सलमान रुश्दी और तसलीमा नसरीन जैसों को समर्थन देने वाले आज उनको गलत कह रहे हैं बात समझ से परे की नहीं है बात सिर्फ इतनी सी है की जो गलत है सभी के लिए है अगर कोई ये बोले की तुम्हारे साथ गलत हो रहा है तो मेरे लिए सही है तो दुनिया गोल है कभी तुम भी लपेटे में आओगे अब जाकर अकल ठिकाने लगी अब जिसको कभी सही बोला था आज उसी को गलत बोलना पड़ रहा है और वो भी एक सुर में यही राम की लीला है भक्तजनों अब काम सिर्फ इतना करना है की हाय तौबा मचाने से अच्छा है रामभद्राचार्य जी से मिल बैठ कर बात की जाय और अगर उन्होंने गलत लिखा है तो उसका उनको प्रायश्चित करना चाहिए.ऐसा न हो सच्चा डेरा और झूठा डेरा जैसा माहोल बन जाय और सरे भक्त आपस में ही भीड़ जाएँ....


आपका हमवतन भाई ॥गुफरान (अवध पीपुल्स फोरम फैजाबाद,अयोध्या)

(फोटो हिंदुस्तान से साभार)



2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

भाई एक बात नहीं मालुम है कि इस रामायण की विषयवस्तु क्या है? क्या सचमुच आपत्तिजनक है? दूसरी बात ये कि जिन संतों ने तांडव करने की बात करी है उन मोटे पेट वालों को पता है कि तांडव करने के लिये उन्हें प्रभुदेवा से कितनी ट्रेनिंग लेनी पड़ेगी
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP