राज ठाकरे जी से एक साधारण मराठी मानुस की विनती

सोमवार, 23 नवंबर 2009

मराठी अस्मिता के लिये सतत संघर्षरत राज ठाकरे जी आज युवाओं के चहेते नेता बन चुके हैं। उनकी कार्यशैली और वक्तव्य निपुणता बेहद प्रभावशाली है। आज खबर देखी कि भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड(सेबीSEBI) ने उनकी पार्टी के एक पत्र पर अपनी वेबसाइट का मराठी संस्करण उपलब्ध कराने की हामी भर दी। ये राज ठाकरे जी की कार्यकुशलता का सुखद परिणाम है कि अब तक अंग्रेजी, हिंदी और गुजराती में उपलब्ध इस वेबसाइट का मराठी संस्करण भी अब उपलब्ध होगा।
निवेदन है कि मुंबई हाईकोर्ट में चलने वाली कार्यवाही सिर्फ़ अंग्रेजी में ही हुआ करती है और हम जैसे साधारण मराठी भाषिकों को तो समझ में ही नहीं आता कि क्या जिरह हो रही है और क्या कार्यवाही हो रही है? इस परिस्थिति में हमारे जैसे सर्वसामान्य लोग केवल हाईकोर्ट की कार्यवाही मराठी में न होने के कारण अक्सर ही न्याय मंदिर में अकारण ही न्याय से वंचित रह जाते हैं। आदरणीय राज ठाकरे जी से करबद्ध निवेदन है कि हाईकोर्ट की कार्यवाही में भी मराठी भाषा का सम्मान बना रहे इस दिशा में एक पत्र संबंधित विभाग को भी लिखें ताकि हम वंचितों को न्यायिक कार्यवाही तो समझ में आए।

1 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

आपने ये किस सामान्य मराठी मानुस की विनती लिख भेजी है। राज ठाकरे के पुरखे उतर आएं तो भी ये काम नहीं करवा सकते कि हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही को अंग्रेजी से बदलवा सकें।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP