विदेह पुत्रियों का कमाल, मैथिली का पहला ई-पेपर ई-समाद

मंगलवार, 10 नवंबर 2009



मैथिली का पहला ई पेपर -समाद को विधिवत रूप से लांच कर दिया गया। ये किसी भी भाषा का पहला ई पेपर है जिसे किसी पत्रकार ने, बुद्धिजीवी ने शिक्षाविद ने या तकनिकी के ज्ञाता ने नही अपितु मिथिला पुत्रियों ने अपने गृहणी होने के दायित्व के साथ साथ एक अनूठा प्रयोग कर समस्त विश्व के सामने एक उदाहरण प्रस्तुत किया है, साबित किया की विदेह मैं आज भी वैदेहियाँ ही हैं।

ई समाद का लांचिंग दिल्ली के प्रेस क्लब में हुआ और पूर्व केन्द्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन ने इस पोर्टल का लोकार्पण किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि देशबंधू अख़बार के स्थानीय सम्पादक अमिताभ अग्निहोत्री जी थे। ई समाद के सम्पादक श्री कुमुद सिंह ने सभी अतिथिगण का स्वागत किया।



पहले ब्लॉग से शुरू हुआ यह प्रयास आगे बढ़ता हुआ साप्ताहिक ई पत्रिका तक पहुंचा और आम लोगों में लोकप्रियता का पर्याय बना। अब जब इसे बकायदा वेब ई पत्रिका का रूप दे दिया गया है तो इसकी पहुँच दुनिया भर में बढेगी और मिथिला की ख़बर समस्त दुनियां में मैथिली में पढ़ा जाएगा, माँ मैथिली के लिए यह नि:संदेह एक शुभ संकेत है।




2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

भड़ास परिवार की तरफ से सभी संबद्ध बहनों को हार्दिक शुभेच्छाएं
जय जय भड़ास

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

ई-समाद के लिए शुब्कामनाए ,
मुझे लगता है की इस पत्रिका को पढने के बाद हम सभी मैथली भाषा की मिठाश से रूबरू होगे

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP