लो क सं घ र्ष !: गुंडागर्दी का ईनाम

रविवार, 24 जनवरी 2010

लखनऊ के जिला मजिस्त्रेट अमित घोष की गुंडागर्दी के कारण राज्य कर्मचारियो की हड़ताल हो गयी थी सैकड़ो राजकर्मचारियों के सर फूटे थे करोडो रुपयों का नुकसान हुआ लेकिन समयबद्द वेतनमान के तहत उनको ईनाम के रूप में सरकार सुपर टाइम स्केल में प्रौन्नति की जा रही है कृषि विभाग के जिस कर्मचारी को थप्पड़ों से पीटा था उसके ऊपर फर्जी मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा जा चुका है राज्य द्वारा नियमो कानूनों का उल्लंघन अब आम बात हो गयी है अमित घोष के खिलाफ कमिश्नर की जांच लंबित है जांचें इन अधिकारियों के खिलाफ चलती रहती हैं और इनको प्रोमोशन दर प्रोमोशन मिलता रहता है ये अधिकारिगण अच्छी तरह से जानते हैं कि लोकतंत्र में इनके खिलाफ कुछ नहीं हो सकता है इन अधिकारियों की कार्यशैली आम आदमी की रक्षा के लिए होकर उनका उत्पीडन करने के लिए है गाँव देहात में इन अधिकारियों की भूमिका बहुत ही निंदनीय हो जाती है राजधानी लखनऊ के अगल बगल के जिलो में प्रशासनिक अधिकारियो ने अपनी काली कमाई से फार्म हाउस खोले है और किसानो के पास अब उपजाऊ जमीन का टोटा होता जा रहा है हजारो लाखो एकड़ जमीन के चारो तरफ दीवालें बना कर चौकीदार नियुक्त किये जा चुके हैं अच्छा यह होगा की नए जमीन दारों की जमींदारी की जांच हो तो उनके नए-नए कारनामे जनता के समक्ष आयेंगे

सुमन
loksangharsha.blogspot.com

3 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

गरीब के पास खोने के लिए उसकी जान और इज़्ज़त के अलावा कुछ नहीं होता और जिस दिन उस गरीब का ज़मीर जाग जाता है वह रक्तक्रान्ति कर बैठता है। इन पढ़े-लिखे चूतिया अधिकारियों की समझ में नहीं आ रहा कि ये अपनी आने वाली नस्लों के लिये कब्र खोद रहे हैं। शोषण की ये श्रंखला इनकी पीढ़ी का नाश करके ही टूटेगी
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

स्साले कोर्ट प्रशासन कुछ इने गिने चूतियों के नाम गिना कर आम लोगों का झुनझुना पकड़ा देते हैं और हमारे देश के ये नौकरशाह देश द्रोह के काम में लग जाते हैं.
घोष सरीखे पदाधिकारियों की गांड में गोबर डाल कर रेगिस्तान में दौड़ाना होगा.
जय जय भड़ास

बेनामी ने कहा…

_तिया और _ड़ जैसे शब्दों का प्रयोग और अंत में
जय जय भड़ास कहना आवश्यक है यहाँ टिप्पनी हेतु।
भड़ास शब्द भी अद्भुत है और यह जगह भी।
सुमन जी को एक अच्छे आलेख के लिए धन्यवाद।
चोरबजारी फैली हि चारो ओर-चोरी और सीना जोरी।

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP