"झेंडा" बना कर अपने लिये मुसीबत पाल ली है

शुक्रवार, 29 जनवरी 2010

आज कई दिनों से देख रहा हूं कि देख रहा हूं कि अवधूत गुप्ते नाम के मराठी फिल्म निर्माता ने महान महाराष्ट्र के राजनैतिक आधार पर एक फिल्म "झेंडा" बना कर अपने लिये मुसीबत पाल ली है। सारी राजनैतिक पार्टियो के चिट्टू-पिट्टू को अपनी फिल्म दिखाते फिर रहे हैं कि भाई अभी देख कर अपने गैरकानूनी राजनैतिक सेंसर से पास कर दो तब प्रदर्शन के लिये आगे बढ़ाएं वरना बाद में उठ कर कोई भी नौटंकी शुरू कर देगा कि इसमें कि अमुक बात हमें पसंद नहीं है इसलिये हम और हमारी चिरकुट पार्टी के चूहे-छछूंदर मिल कर सिनेमा का पर्दा फाड़ देंगे। अब बेचारे गुप्ते बाबू ठाकरे से लेकर राणे तक की सहमति असहमति के मोहताज हैं कि कहीं ये गुंडे उनकी अभिव्यक्ति को आग न लगा दें। महेश मांजरेकर की बात अलग है वो अगर "शिक्षणाचा ची आईच्या घो...." यानि शिक्षा की मां का भो...... आगे क्या है आप सबको अंदाज है इसलिये महेश ने आगे का नाम लिखने की जरूरत महसूस नहीं करी। ये महेश की कहानी शिक्षा के बारे में है अब ठाकरे परिवार या राणे परिवार का तो शिक्षा से लेना देना है नहीं उन्हें तो अंग्रेजी की चाटने से फुरसत नहीं है। ये सारे मिल कर फिल्म झेंडा की एक एक रील चाट कर उसकी मैय्या करे दे रहे हैं। सेंसर बोर्ड को इस देश में समाप्त कर देना चाहिये क्योंकि अब तो सेंसर का काम राजनैतिक पार्टियां चलाने वाले कर रहे हैं पहले उनकी सहमति जरूरी हो गई है।
जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

बहुत खूब,
एकदम सही कहा गुरुवर आपने.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP