सुशासन राज में आरटीआई का मतलब !!

गुरुवार, 30 सितंबर 2010


क्या आप अपने अधिकार का प्रयोग कर के सुचना जानना चाहते हैं की सुशासन का दावा करने वाली नितीश सरकार के नुमईन्दे ने विकास का मद किस तरह से कहाँ कहाँ खर्च किया तो नि:संदेह यह आपका अधिकार है और इस अधिकार को कोई उच्चतम न्यायलय में भी चुनौती नहीं दे सकता मगर सुशासन में इस का उपयोग करना आपको भारी पर सकता है. जाति के आधार पर दलित और महा दलित का विभाजन फिर मुसलमानों का बंटवारा करने वाली नितीश सरकार ने जो जातीय विद्वेष फैलाया है वो आपके सारे अधिकार पर भारी है.
मधुबनी जिलान्तर्गत सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत जानकारी मांगना राष्ट्रपति द्वारा प्रशंसित कवि जेपी सेनानी राजेन्द्र रमण को महंगा पड़ा। लखनौर प्रखंड के परमेसरा गांव निवासी राजेन्द्र रमण ने लखनौर पूर्वी पंचायत के पंचायत समिति सदस्य वीणा देवी द्वारा कराए गए विकास कार्य संबंधी जानकारी मांगी थी। श्री रमण ने जून एवं अगस्त महीने में बीडीओ लखनौर, बीएओ लखनौर एवं मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी लखनौर के पास आवेदन देकर पंसस द्वारा किए गए विभिन्न कार्य की जानकारी मांगी थी।

मगर ये जानकारी लेने की बात राजेन्द्र को इस कदर महगा पड़ा की अब ये खुद अपनी सुरक्षा और बचाव के लिए भटक रहे हैं. पंचायत समिति सदस्य वीणा देवी ने 8 सितंबर 2010 को समस्तीपुर अनु. जाति जनजाति थाना में प्राथमिकी 45/10 दर्ज कराकर राजेन्द्र रमण पर घर पर पहुंचकर अपमानित करने, धमकी देने सहित कई अन्य आरोप का मुकदमा दर्ज करवा इनके आरटीआई के अधिकारों पर नकेल कस दी है.

अब राजेन्द्र रमण जी की पत्नी जगदम्बा देवी ने अनुमंडल आरक्षी उपाधीक्षक झंझारपुर के पास आवेदन देकर पति पर लगाए गए आरोप को बेबुनियाद बताते हुए न्याय की गुहार लगाती फिर रही हैं. जगदम्बा देवी ने आवेदन में कहा है कि सूचना के अधिकार द्वारा जानकारी मांगने के कारण ही पंसस द्वारा उनके पति को झूठा मुकदमा में फंसाया गया है.

राजेन्द्र रमण को अभी तक सूचना के अधिकार के तहत जानकारी तो नहीं मिली है मगर हाँ अब ये न्याय के लिए भटक रहे हैं.

क्या सुशासन में अधिकार की बात करने पर जातिगत राजनीति हावी हो जाती है.

3 टिप्पणियाँ:

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

एक और फ़ौजी चोट खा गया......
हमारे भाई डा.रूपेश तो इस झुनझुने को बहुत पहले बजा कर भुगत चुके हैं। हवन करते हाथ जल जाना कोई नयी बात नहीं है
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

सही कहा फरहीन आपने.
जय जय भड़ास

dhirendra pratap singh durgvanshi ने कहा…

rajneesh bhai ji sadar namaskar sabse pahle merai housalaafjai ke liye sukriya.mitra aap ka lekh sundar aur samsamyik h.shayad kal rti desh me 5 saal pure kar legi is avsar ir iski ab tak ki uplabdhiyo pr jaroor sochana chaiye.dhanyvaad.apka dhirendra from dehradun

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP