धोबी घाट और आमिर का किरण प्रेम, ये दम्पति अपने आपको बुद्धिजीवी समझते हैं पर दर्शक को बेवकूफ....

शुक्रवार, 28 जनवरी 2011


आमिर खान की जब जब कोई नई सिनेमा आती है तो सिनेमा के आने से पहले आमिर साहब दिन रातअजान देने लगते हैं, अपने बेहूदा कार्यक्रमों को लोगों के आगे यूँ पडोसते हैं मानों तरबूज के बेल में अंगूर का फल हो और हमारे इलेक्ट्रानिक मीडिया के भोंपू बने सिपाही आमिर के साथ रेंकते हुए बस इसी होड़ में की आमिर का कहीं कुछ छुट ना जाये, वास्तविकता गयी भाड़ में.


इस बार तो धोबी घाट था और धोबी घाट का अजान सबसे ज्यादा होना था क्यूँ की इस स्वयंभू बुद्धिजीवी अभिनेता की बुद्धिजीवी पत्नी ( दोनों को बुद्धिजीवी बनाने में हमारे देश का निहायत ही बेहूदा मीडिया ने अपनी अग्रणी भूमिका निभाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है) की शुरुआत जो थी.

चार कोण में घूम रहे इस सिनेमा के ख़तम होने के बाद सिर्फ एक सवाल कि इस का नाम धोबी घाट क्यूँ ???

वैसे बुद्धिजीवियों का एक कोना हमेशा अवैध संबंधों के इर्दगिर्द होता है और यहाँ भी इस दंपत्ति ने इस सम्बन्ध को भुनाने में चूक नहीं की. मगर धोबी घाट क्यूँ ??

भड़ास खोज रहा है कि इस दंपत्ति की बुद्धिजीविता ( नौटंकी ज्यादा) में धोबी घाट कहाँ रह गया या फिर ये नाम भी एक स्टंट मात्र.

2 टिप्पणियाँ:

दीनबन्धु ने कहा…

कहाँ थे आप जमाने के बाद आए हैं.....???
किधर गुम हो गए थे भाई आए भी तो आमिर खान और किरण भौजी को डंडा लेकर दौड़ा लिये। आपने अगर पैसे खर्च करके इस फिल्म को देख लिया होगा तभी ये हाल है वरना मुफ़्त में तो हम कुछ भी कूड़ा कबाड़ झेल जाते हैं :)
जय जय भड़ास

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

लीजिये भाई कर दिया आपकी दी हुई दो हाइपर लिंक करे शब्दों को.....
भड़ास खोज नहीं पाएगा कि इन लिंक्स का क्या मतलब है लेकिन मैं जानने लगी हूं कि ये क्या खेल है :)
यशवंत यशवंत खेलना हो तो बताइयेगा।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP