अब राज ठाकरे कहा है ? मंदबुद्धि लड़कियों से रेप के आरोपी हिरासत में

रविवार, 6 मार्च 2011

मुंबई॥ नवी मुंबई के एक निजी अनाथ आश्रम में रहने वाली मानसिक रूप से विक्षिप्त पांच महिलाओं के साथ बलात्कार के आरोप में शुक्रवार की रात गिरफ्तार किए गए अनाथ आश्रम के संस्थापक निदेशक सहित चार लोगों को शनिवार को एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया जिसने उन्हें 15 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। बलात्कार की शिकार महिलाओं में से तीन नाबालिग लड़कियां हैं।

नवी मुंबई के पुलिस उपायुक्त अंकुश शिंदे ने बताया कि नवी मुंबई के कलमबोली इलाके में कल्याणी महिला बाल सेवा संस्थान को एक निजी संगठन चलाता है। उन्होंने बताया कि संगठन के खिलाफ शिकायत मिलने के बाद राज्य सरकार की ओर से नियुक्त बाल कल्याण समिति के सदस्यों के अनाथाश्रम दौरे के समय यह घटना प्रकाश में आई।

उन्होंने बताया कि इस जानकारी के बाद संगठन के संस्थापक रामचंद्र करंजुले, उनकी पत्नी सुरेखा (संस्था की निदेशक), रामचंद्र की पुत्री कल्याणी (संस्था की अध्यक्ष) और देखभाल करने वाली सोनाली बाडटे को गिरफ्तार कर लिया गया। डीसीपी ने कहा कि चारों को एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया जिसने उन्हें 15 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया।

उन पर भादंसं की धारा 376 (बलात्कार), 109 (किसी अपराध में उकसावे के लिए दंड) और 114 (अपराध के समय उकसाने वाले की उपस्थिति) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने कहा कि मानसिक रूप से विक्षिप्त 19 महिलाओं को चिकित्सकीय परीक्षण के लिए भेजा गया और पाया गया कि तीन नाबालिगों सहित पांच के साथ बलात्कार हुआ था। 


khalid khan, delhi का कहना है :
06/03/2011 at 10:13 am
यहाँ राज ठाकरे कहाँ छुप गया. अगर कुछ करना है तो अच्छा मौका है.आप की वजह से किन्ही ग़रीबों का फायदा हो जायगा.मगर अफ़सोस इस मामले मे कोई भी राजनीतिक पार्टी नही पड़ेगी, खास तोड़ से मनसे तो बिल्कुल भी नही क्योंकि आरोपी उप्र या बिहार के नही माहरॉशट्रे के है.


इस  खबर का स्रोत यहाँ है

2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

अमित भाई घटना कलम्बोली की नहीं बल्कि पनवेल(नई मुंबई के जिस उपनगर में मैं रहता हूं) के खांदा कालोनी की है। राज ठाकरे, बाल ठाकरे, शरद पवार या किसी भी अन्य राजनेता को इस तरह के मामले में कोई दिलचस्पी नहीं रहती। कई बार तो इस तरह के दबी जबानों में किस्से भी आते हैं कि महिलाश्रम या अनाथाश्रमों से नेताओं को भी लड़कियां भेजी जाती हैं तो ऐसे में नेताजी क्यों दिलचस्पी लेंगे। इस आश्रम के पास ही शिवसेना और मनसे दोनो सेनाओं के सैनिक कार्यालय बड़ी निर्लज्जता से सीना ताने खड़े हैं।
पुलिस भी देर सबेर लीपापोती करके मामला रफ़ादफ़ा करवा ही लेगी।
जय जय भड़ास

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

आप ने सही कहा डॉ साहब ,बस बेचारी उन असाहय लड़कियों की हालत पर आखे नम हो जाती है

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP