एक चुटकला

रविवार, 10 अप्रैल 2011

महिला (अपनी सहेली से) – बहुत परेशान हो गई हूँ।
सहेली – क्या हुआ?
महिला – हर साल में एक बच्चा हो जाता है।
सहेली – तू एक काम कर, साल भर अपने पति के साथ मत सो।
महिला – ये भी कर के देख चुकि, कोई फायदा नहीं हुआ।

2 टिप्पणियाँ:

मोहम्मद उमर रफ़ाई ने कहा…

चुटकुले ही लिखना है तो अच्छे भी हो सकते हैं ऐसे "घासलेटी"चुटकुले लिख कर भड़ास के उगालदान को टायलेट की दीवार मत बनाइये। इन्हें तो आप अपने "दिल के दर्द" पर ही लिखिये शायद वही जगह इनके लिये सही है।

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

क्या अच्छा है क्या बुरा ,
इस बारे मे जज बन कर फैसला देने के लिए आप को जज किस ने बनाया है जनाब
, जब की आप खुद धर्म का धंधा करते है {क्या धंधा करते है मेरी समझ मे नहीं आया ,किर्पया विस्तार पूर्वक बाते , या धर्म किस पार्कर से industry hai ये बाताए),
जैसा की आप ने खुद लिखा है , आप industry ka kya मतलब बताना चाहेगे ,क्या इस का मतलब उद्योग- धंधे की जगह कुछ और हो गया है? ,

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP