साल २००८ कोल्कता और में

बुधवार, 31 दिसंबर 2008


हलाकि साल के अंत में परम्परा स्वरुप आप साल की हर बड़ी खबर टीवी पर देखेंगे लेकिन एक साधारण आदमी (मैने) क्या देखा और याद रहा उसकी एक झलक.....

कोल्कता का वो निम्ताला घाट याद आया जहाँ डोम के बच्चे किसी धनि सेठ की अर्थी देख नाचने लगते थे..... आज अच्छा खाना जो मिलेगा उन्हें।

हावडा स्टेशन का राजू याद आया जो हुगली के घाट पर पीपल के नीचे रहता है , स्टेशन पर बोतल चुनता है, पानी के बोतल का आठ आना और कोल्दिंक्स के बोतल का चार आना, मोटी वाली आंटी इतना ही देती है ............बडे शान से बताता है कि 8 और 9 नम्बर प्लेटफोर्म उसका है ............... आगे बोलता है अभी 12 का हूँ न 21 का होते-होते 1 से 23 नम्बर प्लेटफोर्म पर बस वोही बोटेल चुनेगा।

टोलीगंज के मंटू दा याद आए जो सिंगुर काम करने गए थे ...... वापस लोट आए ........ बोलते हैं हस्ते हुए ...काजटा पावा जाबे.....57 के मंटू दा आपनी मुस्कराहट में दर्द छिपाने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं। पाँच कुवारी बेटिया, तीन की उम्र 30 के ऊपर है।

आज जब रात को हम सभी न्यूज़ रूम से साल भर की खबरे देख रहे होंगे तो हमे वो डोम के बच्चे, वो स्टेशन का राजू, टोलीगंज के मंटू दा नही दिखेंगे।

2 टिप्पणियाँ:

दीनबन्धु ने कहा…

कुमार भाई हर दिन एक जैसा, भूख एक जैसी, जरूरतें एक जैसी, प्रयास एक जैसे बस तारीख दर तारीख साल बदल जाते हैं और हो सकता है एक दिन आप लोग इसी तरह मुझ जैसे गुमनाम आदमी की मौत का जिक्र किसी पोस्ट में कर लेंगे और कहानी खत्म हो जाएगी...
वही डा.रूपेश जी की सबसे छोटी लघुकथा...
एक आदमी था एक दिन वो मर गया.....
आज इस बहाने से दारू पीकर कुछ देर भूलने की कोशिश करूंगा अपने भीतर के मंटू दा’ को....
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

भाई,
मर्मस्पर्शी है मगर ये ऐसा वाक्य है जो डाक्टर रुपेश के लिए दैनिक है और वो सिर्फ़ देखते नही अपितु करने चले जाते हैं.
इसी बहाने आपने ख़बरों की प्राथमिकता पर भी निगाह डाली है.
दर्द बांटिये और कुछ कर डालिए
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP