हाय भगवन, राम क्यो नही आते

शनिवार, 10 जनवरी 2009

हो रहा आचरण का निरंतर पतन राम जाने कि क्यों राम आते नहीं ! हैं।
जहाँ भी कहीं हैं दुखी साधुजन लेके उनकोशरण क्यों बचाते नहीं ! है
सिसकती अयोध्या दुखी नागरिक कट गये चित्रकूटों के रमणीक वन
स्वर्णमृग चर रहे दण्डकारण्य को पंचवटियों में बढ़ गया है अपहरण .........................


आगे पढने के लिए किर्पया मेरे ब्लॉग http://wwwdarddilka.blogspot.com/ पर दस्तक दे आप को विनम्रता पुर्वक पूर्ण कविता पेश की जायगी

2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

अमित भाई पूरी कविता का रसास्वादन करा आपके ब्लाग पर जाकर..... अपना संपर्क मोबाइल नं. sms कर दीजिये ...मेरा नं. है 09224496555
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

बढिया है भाई,
आप लेखनी जारी रखियी.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP