गाँव और बरहम बाबा.

बुधवार, 1 अप्रैल 2009

गाँव गया तो जाते ही सबसे पहले अपने बरहम बाबा के शरण में पहुंचा। ये हर बार करता हूँ क्या करुँ बचपन की आदत रही है जब भी अकेला महसूस करता था अपने बरहम बाबा के साथ घंटो बतिया लेता था, सारे गिले शिकवे दूर और दिल को भी सुकून मिलता था। इस बार भी गया तो पहले जी भर कर बातें की, लड़ा और फ़िर बाबा से प्यार मोहब्बत भी फ़िर एक ख्याल की क्यों ना भड़ास परिवार के साथ लोगों को भी बाबा से मिलवा दूँ सो ले आया सभी लोगों के बीच अपने बाबा को।

चलिए मिलिए बरहम बाबा से संग हैं भोला बाबा भी और हजारो साल पुराना वो पीपल का पेड़ जो हमारे बाबा का घर है।




आया बाबा के द्वार पर



बरहम बाबा और भोले बाबा का संगम, ना जाति पाति सब से परे सब के बाबा




बाबा का घर ये वर्षो पुराना पीपल का पेड़ जिसकी छाँव में कभी हमने भी लड़कपन की


आप भी बाबा के साथ कुछ ग्रामीण नजारा लीजिये जहन हमारा भारत बसता है, शहर के कोलाहल सी दूर, ना भागम भाग ना ही जिन्दगी को पीछे छोरती ज़माने की ऊब।

जय बरहम बाबा की।

जय जय भड़ास।


मैथिली में पढई केर लेल अतय आउ !!!

4 टिप्पणियाँ:

abhivyakti ने कहा…

bhut acchi abhivyakti apne anubhav ki

gargi

Manoj dwivedi ने कहा…

Darshan matra se shanti ka anubhav kara diya apne sir...dhanyabad

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

रजनीश भाई बस आंख बंद करके कल्पना ही कर सकता हूं आप ज्यादा ये सब दिखा दिखा कर रुला रहे हैं मन करता है कि मुंबई छोड़ कर भाग जाऊं...
जय जय भड़ास

mark rai ने कहा…

mere gaanw me bhi brahm sthaan hai ...usaki yaad aa gayi . waha ham sab theater ka reharsel karate the .jindagi bhag doud me ab gaanw jana kam ho gaya ...us sthan ki yaad aapake lekh padhkar aayi

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP