मकडी - आप की जान की दुश्मन

शुक्रवार, 1 मई 2009


यदि आप लापरवाही के साथ सार्वजनिक शौचालय का प्रयोग करते हैं तो सावधान हो जाएं। पिछले दिनों एक ऐसी खतरनाक मकड़ी की खोज हुई है जो सार्वजनिक शौचालयों में ही पाई जाती है। देखने में तो यह मकड़ी छोटी सी दिखती है लेकिन इसका जहर बहुत खतरनाक होता है।
ठंडी और अंधेरी जगहों में पाई जाने वाली इस मकड़ी का शिकार बने सभी लोगों में एक जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। आशंका जताई जा रही है कि यह मकड़ी पूरी दुनिया में फैल सकती है।
ऐसे सामने आई मकड़ी
इस मकड़ी की खोज उस घटना के बाद हुई है जब उत्तरी फलोरिडा के एक अस्पताल में पांच दिनों में तीन महिलाओं को जब एक के बाद एक भर्ती किया गया। इन तीनों महिलाओं में एक ही लक्षण देखने को मिले। डॉक्टर जब तक इन्हें बचा पाते इससे पहले इनकी मौत हो गई। इन महिलाओं के शरीर पर न कोई चोट के निशान मिले और न कोई मानसिक अघात जैसा मामला सामने आया।
इन महिलाओं के शरीर में जहर फैला हुआ था। सबसे बड़ी बात यह थी कि ये महिलाएं एक दूसरे को नहीं जानती थीं। इनमें बस एक ही बात कॉमन थी। इन तीनों महिलाओं ने एक स्थानीय रेस्टोरेंट के शौचालय का उपयोग किया था। बस यही इनका मौत का कारण बन गया।
ये हैं लक्षण
इस मकड़ी के काटने के बाद ठंड लगने के साथ बुखार और उल्टी होती हैं। जिसके बाद मरीज धीरे-धीरे कमजोर होता जाता है। हड्डियों में दर्द के साथ शरीर टूटता है और देखते-देखते मरीज की मौत हो जाती है।

1 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

इस पूरी पोस्ट से एक नैतिक संदेश निकल कर आता है कि भाई भड़ासियों उत्तरी फ्लोरिडा मत जाना और जाना तो रेस्टोरेंट में मत जाना और अगर चले भी गये तो पेट दबा कर रखना यानि कि शौचालय इस्तेमाल मत करना। भारत में मकड़ी या मच्छर से कुछ हो ही नही पाता मुंबई में धारावी एशिया का सबसे बड़ी झोपड़पट्टी है इंसान खुद कीड़े-मकोड़ों जैसी जिंदगी बिता रहे हैं मकड़ी इनका कुछ नहीं उखाड़ सकती हैं ये बड़े बेशर्म जान लोग हो चले हैं
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP