* भारत में प्रमुख शनि देव के सिद्ध-स्थल *

गुरुवार, 7 मई 2009


* कोकिला वन में स्थित सिद्ध शनि मन्दिर
* शिन्ग्नापुर (महाराष्ट्र ) गाँव में सिद्ध शनि पीठ
* ग्वालियर स्थित सिद्ध शानैश्चरा पीठ मंदिर
* चांदनी चौक (दिल्ली) स्थित शनि मंदिर
* काशी-धाम में स्थित सिद्ध शनि मंदिर


**ज्योतिष एवं वास्तु के सन्दर्भ में जानकारी हेतु कृप्या आप मेरे web-site पर विसिट करें : nakshatravaastu.blogspot.com * -आचार्य रंजन (ज्योतिषाचार्य & वास्तु विशेषज्ञ ) **

2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

आचार्य रंजन( ज्योतिषाचार्य & वास्तु विशेषज्ञ ), न्यू प्रोफ़ेसर कोलोनी , दिनकर नगर ,बेगुसराय (बिहार) मो। न। +91-9431236090 & टे। न. 06243-243901
शनिदेव के प्रमुख स्थलों के बाद मुझे लगा ये उनके हेडक्वार्टर का पता है, ये क्या चक्कर है बताएं जरा... कुछ समझना कठिन हो रहा है:)
जय जय भड़ास

आचार्य रंजन ने कहा…

आदरणीय डॉक्टर साहब ,
आपका प्रतिक्रिया मैंने आज पढ़ा ! फिर मैंने आपका प्रोफाइल देखा , जो की किसी भी व्यक्ति पर अपना प्रभाव छोड़ने के लिए काफी है ! परन्तु क्या आपको लगता है की इस पृथ्वी पर किसी भी समस्या का कोई ऐसा उत्तर या समाधान है (किसी के भी पास ) जिससे सभी व्यक्ति सहमत हो ? सिवाय उसके जो इसका समाधान बता रहा हो ! चाहे वह चिकित्सा के क्षेत्र से जुडा हो , आर्थिक क्षेत्र के सलाहाकार के रूप में कार्यरत हो , विज्ञानं के क्षेत्र से जुडा हो या वह व्यक्ति किसी भी क्षेत्र से ही क्यों ना जुडा हो ! मैं समझता हूँ इस पृथ्वी पर यदि स्वयं को डॉक्टर की उपाधि से विभूषित किये हो तो शायद उनके परिवार में कोई बीमार ही नहीं पड़ता होगा !हमने अपने जीवन में कई ऐसे प्रत्यक्ष उदहारण देखें हैं की की स्वयं तो डॉक्टर बन कर लोगों को सभी बिमारियों को ठीक करने का दावा (आडम्बर) करता फिर रहा है और स्वयं उसकी पत्नी के बीमारी का हल जीवनपर्यंत उसे समझ ही नहीं आया है ! ऐसा सिर्फ चिकित्सा के ही क्षेत्रों में नहीं है बल्कि प्रत्येक सेवा-रूपी क्षेत्रों में (कुछेक अपवादों को छोड़कर )है ! मैं समझता हूँ की जब इंसान के हाथों में अगले एक पल पर भी नियंत्रण नहीं है तो वह किस आधार पर इतनी लम्बी चौडी 'अहम् रूपी महल 'का आधार रखने की बात करता है ! मैं नहीं समझता हूँ की दोष किसी भी क्षेत्र में है चाहे वह क्षेत्र चिकित्सा का हो या ज्योतिष का हो या विज्ञानं का हो या किसी और का भी , दोष उस अनमोल विद्या को अपने नजरिये से देखने वालों में है जिसे अपना क्षेत्र तो कुछ समझ आता नहीं हाँ दुनिया के प्रत्येक क्षेत्र को समझने का दावा करता फिरता है ! डॉक्टर साहब बुडा नहीं मानेंगे परन्तु आप जैसे उच्च शिक्षित व्यक्ति से ऐसी उम्मीद नहीं थी ! काश ! आप अपने शेष जीवन के अनमोल एवं अति व्यस्त जीवन से थोडा वक्त निकालकर इस क्षेत्र में भी कुछ रिसर्च कर लिया होता !
* यदि कोई ऐसी बात जिससे आपकी पवित्र आत्मा को दुःख पहुंचा हो तो कृप्या छोटा भाई समझकर क्षमा कर देंगे एवं आगे भी मेरा मार्ग प्रशस्त करेंगे !

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP