Loksangharsha: दूरियां घट सके वो मिलन कीजिये...

सोमवार, 11 मई 2009

दूर के श्यामघन कुछ जतन कीजिये
दूरियां घट सके वो मिलन कीजिये

आह मेरी स्वयं में मिला लीजिये
अश्रु के सिन्धु से जीवनी लीजिये
पीर की बांसुरी पर थिरक जाइये-
पात तृन डालियों को हिला दीजिये

तय इतना तृप्ति आत्मा में मेरी -
शान्ति का सार अभिनव ग्रहण कीजिये



हो गए युग कई तन भिगोते हुए
दौड़ते-दौड़ते कुछ संजोते हुए
तब फुहारों ने मन को छुआ तक नही-
प्यासी बदरी से बादर लजाते हुए

घोर गर्जन का संताप मत दीजिये-
प्रीत परतीत सुंदर सुमन कीजिये

जग समझता सही आप का मर्म है
दान देना सदा आप का कर्म है
बिज़लियो को संभालना सिखा दीजिये-
घोसलों को बचाना बड़ा धर्म है

जग में हर और जीवन सजाते हुए-
विश्व के पाप का कुछ गम कीजिये

डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल ''राही''

1 टिप्पणियाँ:

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

डॉ.राही साधुवाद के पात्र हैं और सुमन भाई आप जिस महती कार्य में जुटे हैं उसमें हम सब आपके साथ हैं, डॉ.रूपेश से आपकी बात हो चुकी है...
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP