लो क सं घ र्ष !: वैसे ही मेरा ख्वाब है तावीर के बगैर....

शुक्रवार, 5 जून 2009


तदवीर जैसे होती है तकदीर के बगैर।

वैसे ही मेरा ख्वाब है तावीर के बगैर

उसने जो सारे वज्म किया मुझको मुखातिब
मशहूर हो गया किसी तशहीर के बगैर ।

सुनकर सदाये साकिये मयखाना शेख जी
मेय्वर से उठ के चल दिए तक़रीर के बगैर

महफिल से आके उसने जो घूंघट उठा दिया
सब कैद हो गए किसी जंजीर के बगैर ।

दस्ते तलब भी उठने लगे अब बराये रस्म
वरना वो क्या दुआ जो हो तासीर के बगैर ।

दीवाने की नजर है जो खाली फ्रेम पर,
वहरना रहा है दिल तेरी तस्वीर के बगैर।

जरदार को तलब है बने कसेर आरजू
'राही' को है सुकूं किसी जागीर के बगैर ।

-डॉक्टर यशवीर सिंह चंदेल 'राही'

1 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

बहुत खूब,
भी भड़ास अपने पुराने दिनों में वापस लौट रहा है,
शानदार लिखा, उर्जावान है.
जरी रहिये
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP