मेरी ईद

गुरुवार, 17 सितंबर 2009

सोचता हूँ की इस ईद पर क्या करूँ
बेरोज़गारी की जेब से कैसे खर्च करूँ,
कुछ देर लिखता हूँ फिर रुक जाता हूँ
सोचता की इस ईद पर क्या करूँ,
ख़ुशी भी अजीब सी लगती है ईद की
लाशों ढेरों से लिपटा मेरा देश है,
आँखों से अश्क नहीं टपकता लहू है
हर किसी के हाथ में कफ़न है दोस्तों,
अजीब सा मंज़र है हर किसी दिल का
हर किसी के चेहरे पे एक खौफ सा है,
सोचता हूँ की इस ईद पर क्या करूँ
बेरोज़गारी की जेब से कैसे खर्च करूँ,

आपका हमवतन भाई ,,गुफरान (अवध पीपुल्स फोरम फैजाबाद),

8 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

भाई बेरोजगारी है तो खर्च करने के बारे में मत सोचिये। ईदी और जकात की जुगाड़ में रहिये ताकि ईद अच्छी मन सके :)
जय जय भड़ास

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

गुफ़रान भाई आपको ईद की हार्दिक शुभकामनाएं। आपकी नज़्म को मेरे उर्दू ब्लाग "लंतरानी" पर नस्तालिक रस्मुलख़त में करके उर्दू जानने वालों के लिये लिख रही हूं।
जय जय भड़ास

गुफरान सिद्दीकी ने कहा…

जी नवाजिश है मुनव्वर आपा काफी दिनों बाद आपका कमेन्ट देखा अच्छा लगा और उम्मीद है वहां सभी खैरि़त से होंगे ईद की बहोत मुबारकबाद आप सभी को,

Suman ने कहा…

ed mubarak ho.

Suman ने कहा…

ed mubarak ho.

Suman ने कहा…

ed mubarak ho.

गुफरान सिद्दीकी ने कहा…

shuqriya ke saath aap sabhi ko saparivar dashahra ki shubhkamnayen

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP