प्रणव रॉय, एन डी टी वी, ख़बर या फरमाइश.

शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

एक नजर एन डी टी वी इंडिया के इस कार्यक्रम पर।

टी वी पत्रकारिता के भीष्म हैं प्रनॉय इन्होने अपने खबरिया चैनल पर बाजारवाद हावी नही होने दिया ( एक समय तक) मगर कालांतर में एन डी टी वी बाजारवाद के चपेट में आने से नही बचा। आज जब लोग ख़बर को तरसते हैं क्यूँकी बाजार की भीड़ में ख़बर को बेचने के लिए सभी लाला जी लोगों ने मीडिया की कमान अपने हाथों में ले ली है तो पत्रकारिता के बाजार में भला एक पत्रकार क्यूँ पीछे रहे ?

ख़बर के बजाय राखी सावंत का रोना हसना बच्चे खिलाना, से लेकर एक नजर तस्वीर पर जहाँ एन डी टी वी के दो टकिया पत्रकार की फरमाइश और गाने का कार्यक्रम शुरू।

निकम्मे पत्रकारों की अग्रणी सूची में शामिल विनोद दुआ के पेट पूजा को समाचार के रूप में देख कर लोग त्रस्त ही थे की प्रनॉय का नया धम चिक धम यानी की ख़बर के बजाय गाने सुनिए।

जय हो जय हो

जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

बेनामी ने कहा…

दूरदर्शन के पचासवें वर्ष में चैनल्स का श्रादध्

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

अग्नि बच्चा,ये जनाब क्या करें जब सारे लोग नचनिया गवइया लोगों को ही देखना सुनना चाहते हैं तो क्या ये देश की अन्य खबरें दिखा कर चैनल बंद करवा लें? जो बिकता है वो दिखता है की तर्ज़ पर दिखा रहें हैं, बेचारे लाचार और मजबूर पत्रकारिता के प्रतिनिधि हैं जो कि भांड-मिरासियों के मनोरंजन के आगे घुटने टेक चुकी है। बाजार में बैठे लालाओं के आगे रिरिया रहे हैं, खबरें कोठे पर नाच रही हैं और पत्रकार तबलची बने हुए हैं। दिमाग सन्ना रहा है। याद है जे.पी. ने कहा था....
नाचो खूब नचाओ रम्भा
चोंथो-चोथो चौथा खम्भा

जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP