क्या कभी अनूप और जैन धर्म की लडाई ख़तम होगी ?

सोमवार, 14 सितंबर 2009

दोस्तों बड़े दिनों से यहाँ जैन धर्म और अनूप के बीच चल रही है / क्या ये कभी ख़तम होगी

6 टिप्पणियाँ:

मनोज द्विवेदी ने कहा…

ISKA KOI UTTAR DE SAKTA HAI TO WAH KHUD AAP HAI SHRIMAN...

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

मनोज भाई मैंने अनूप और अमित की बातो का नहीं , अनूप और जैन धर्म की बातो का जिक्र किया है

अनोप मंडल ने कहा…

मनोज भाई आपको याद होगा कि पहले इस राक्षस ने विनम्रता का ढोंग करते हुए खुद को राक्षस स्वीकार लिया था लेकिन जब हम लोगों ने इसकी पोल खोलनी शुरू करी है तो अब खुद को मानव सिद्ध करने के लिये मरा जा रहा है
जय नकलंक देव
जय जय भड़ास

rajkumar ने कहा…

समझ मे नहीं आता अनोप मंडल की तुम लोग दुसरे की विनम्रता को ही क्यों देखते हो , तुम्हारे पास क्या है , और क्या अमित जैन को तुम जानते हो , क्या सारे जैन लोगो को तुम जानते हो , अगर तुम्हारे अन्दर इतना ही गुस्सा सारे जैन को ले कर है तो अपना थोबडा क्यों छिपा रहे हो , क्यों किसी परदे के पीछे से अपने मन की गंदगी सब को भेज रहे हो , तुम्हारे तो अगर बच्चे को दस्त भी लग गए तो वो भी जैन ने किया होगा और अगर तुम्हे दंत मे दर्द हो गया तो वो भी जैन ने ही किया होगा , यहाँ ब्लॉग पर कुछ भी हो तो वो भी जैन ने ही किया होगा , चलो मान लेते है की जैन ने किया , पर इस बात का तो उत्तर दो-- कैसे किया ?-तंतर से , मंतर से , या गरंथो को बदल के , या जादुई शक्ति से , अबे पागलो के समूह , तुम यहाँ सिर्फ कुते की तरह भोकने आते हो ,यहाँ तुम्हरे पास कोई भी सैधांतिक , सच्चा जवाब नहीं होता , तुम बार बार जैन को गली देते हो , अगर वो कहते है की ठीक है ,हमने आप की बात मान ली ,तो भी तुम्हारे पिछवाडे मे खुजली हो जाती है ,और अगर वे कहते है की इस मे सच नहीं है तो भी तुम खुजाना सुरु कर देते हो , अबे गुमनामी की पैदाइश तेरा तो ये भी नहीं पता किसी को- की तू कोण है ,और कहा से अपना जहर यहाँ भेज रहा है , अब मुझे पक्का यकीं है की तेरे दो चार लफंगे यार जरूर तेरी तारीफ माय जरूर आयेगे और अपनी औकात यहाँ धिकय्गे , उन सभी की टिप्पणियो के लिए अभी से मई इंतजार मे हु / आगे कुछ भी लिख तो किसी गुमनाम लेखक की नहीं ,किसी पर्शिध लेखक की किताब से दिखा / जा आज तुझे इतने पर ही माफ़ किया और रही बात किसी की वो मानव है या नहीं , तो इस बात का फैसला करने का हक़ तुझे किसने दिया ब.................द /
वाह
खाली स्थान भर लिया , वह तू तो बड़ा समझदार है ..................)

दीनबन्धु ने कहा…

@ Rajkumar
अबे ढक्कन तू अनूप मंडल के बारे में लिख रहा है क्या तेरा कोई चेहरा है या सुअर की औलाद अपना प्रोफ़ाइल तक सामने लाने का साहस नहीं है?हम सब कौन हैं ये तू देख ले लेकिन तू किस राक्षस की नाजायज पैदाइश है ये तो बता। जिस लेखक ने तुम्हें राक्षस बताया है वो भी तुममें से ही विभीषण जैसा ही है। जब तुम सब मर जाओगे या अपने राक्षसी कुकर्म छोड़ दोगे लड़ाई अपने आप समाप्त हो जाएगी
जय जय भड़ास

संजय बेंगाणी ने कहा…

देवता अनूप मण्डल की औकात नहीं कि किसी धर्म को चुनौति दे सके. यह उसकी भड़ास है को यहाँ निकाल रहा है. यह अच्छा भी है, वरना यह भड़ास किसी अन्य माध्यम से निकल कर समाज का अहित ही करती.

एक राक्षस...

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP