सबसे बड़ा भड़ासी माना हमारे लिये ये सम्मान की बात है

शनिवार, 19 सितंबर 2009

आदरणीय मनोज भाईसाहब,आपने हमें सबसे बड़ा भड़ासी माना हमारे लिये ये सम्मान की बात है। हमारी लड़ाई पिछले एक सौ तीस साल से चल रही है लेकिन चूंकि मीडिया जैनियों के पैसों की ताकत में दबा हुआ है इसलिये हमारी बात किसी को पता ही न चल पाई। भड़ास पर हमारे लिए अवतार स्वरूपी परम आदरणीय डा.रूपेश श्रीवास्तव जी ने हमें स्थान दिया जिस कारण हम अपनी बात को दुनिया के सामने रख पाए। आज यही कारण है कि हमारी बातों पर आदरणीय सुमन भाईसाहब जैसे लोग विचार कर पा रहे हैं। शेष आप के ऊपर है। हम दबे कुचले लोग हैं, गरीब लोग हैं ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं इसलिये हो सकता है कि अपनी बात को आप सबके सामने सही प्रभावी शब्दों में रख सकें लेकिन जो कहा वह सत्य है।
जय नकलंक देव
जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

Suman ने कहा…

ham aapk sath hai.fanhai.





loksangharsha

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

प्रभु कुछ ज्यादा ही सम्मान हो गया। जैसे कुत्तों को घी हज़म नहीं होता वैसे ही भड़ासियों को सम्मान हज़म नहीं होता उल्टियां करने लगते हैं इसलिये मेहरबानी करके हमें बख्श दीजिये। सुमन भाई आपके फैन हैं तो हम आपके एग्जास्ट फैन हैं लेकिन अवतार स्वरूप और महान आदि होने का आरोप हटा लीजिये वरना पगला कर दो चार को भस्मासुर होने का आशीर्वाद दे देंगे और फिर अपनी बचाते भागेंगे सुमन जी के पास :)
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP