सेल्समेन

रविवार, 27 सितंबर 2009

घास के विराट मैदानों की तरह

फैली सर्द रात के सन्नाटे

को चीरती है

- जैसे लकडहारे चीरतें हैं लकड़ी

-उसकी माँ की चीख

और हम सब बड़ जातें हैं

पोस्ट - मार्टम कक्ष मैं

मेरे सामने ही होता है शव विच्छेदन

और निकलती है उसमें से

-ढेरों मन गालियाँ

-दुस्तर लक्ष्य

-अंतहीन दबाव

-असंखय गुटकों के पाउच

-"कुत्तों से सावधान ""सेल्समेन आर नोट एलाऊड की पट्टियाँ"

तिरस्कार से बंद होते दरवाजों की आवाज

और ..........................और...............................और

एक कोने मैं दबे कुचले सहमे माँ के कुछ सपने ;

"आखिरी बार कब हंसा था ?

"मरने से कुछ देर ही पहले "

गीली रात ढलती है

भौर उमग रही है

रोशनियाँ पीली पड़ने लगती हैं

प्रणव सक्सेना "अमित्रघात "
amitraghat.blogspot.com

2 टिप्पणियाँ:

Chhaya ने कहा…

bahot hi hard hitting poem hai. i really like it. very sensitively written yet it packs a punch that takes the breath away.

मुनव्वर सुल्ताना ने कहा…

प्रणव भाई आनंद आ गया। वैसे तो भड़ास कविताओं का मंच नहीं है लेकिन आपकी कविताएं ढर्रे से अलग हैं।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP