अगर कल सलीम ख़ान की मृत्यु हो जाती, तो !!! Saleem Khan got injured yesterday!!!

मंगलवार, 15 दिसंबर 2009

एकबारगी तो मुझे लगा कि आज मेरी मौत हो जायेगी और आँखों के सामने कुछ सेकंड तक अँधेरा भी छ गया था. जो हुआ वह इतनी रफ़्तार में हुआ कि सँभालने का मौक़ा ही नहीं मिला. कल हो सकता था कि मेरी मृत्यु हो जाती लेकिन शायेद नियति को यह मंज़ूर नहीं था...


हुआ यूँ कि कल मैं ऑफिस के काम से कहीं जा रहा था. और एक जगह पर बाईक रोक दी थी. जहाँ बाईक रोकी थी उसी के दाहिनी तरफ एक कार खड़ी थी और वह भी रुकी हुई थी. मैं वहां मात्र दो या तीन सेकंड ही रुका था. और आगे बढ़ने के लिए पहला गियर लगाया ही था कि अचानक कार ड्राईवर ने बिना अपने बाएं तरफ देखे गाड़ी पीछे की तरफ़ हलकी सी बढ़ा दी थी. वह कार मुझसे सिर्फ हलकी सी स्पर्श ही कर पाए थी, लेकिन मेरा खड़े खड़े ही बैलेंस बिगड़ गया और मैं अपने दाहिने तरह गिर गया. यहाँ तक ठीक था बस घुटनों के बल गिरने की वजह से घुटनों में ही चोट आई थी लेकिन जिस वक़्त मैं नीचे गिरा उसी वक़्त एक टैक्सी बहुत तेज़ी से आ रही थी और उस टैक्सी का बम्पर मेरी बाईक से लड़ता हुआ मेरी खोपड़ी (हेलमेटशुदा) में बहुत ज़ोर से लगा और मैं दूर छिटक कर गिर पड़ा...
यह पूरा हादसा महज़ चंद सेकंडों में हुआ. तभी दो लोग आये और उन्होंने मुझे उठाया और सहारा देकर बाईक पकड़ा दी. मेरे घुटने में बहुत दर्द हो रहा था. और मेरी हथेली भी थोड़ी सी छिल गयी थी...
अब मैं संभल चुका था टैक्सी वाला जा चुका था और कार वाला भी जा चुका था. मेरी जो हालत थी वह तो थी ही लेकिन मुझे अपनी बाईक की हालत देखी नहीं गयी... बाईक के आगे वोयिज़र एक तरफ़ से पूरी तरह से टूट चुका था और और क्लच हैंडिल टूट गया था (गनीमत थी कि क्लच वायर नहीं टुटा था) आगे का मडगार्ड टूट गया था... कुल मिला कर गाडी की पूरी तरह से वाट लग गयी थी...
ख़ैर! हिम्मत करके मैंने अपनी टूटीफूटी बाईक स्टार्ट की और अपने ऑफिस आ गया. फ़िर मैंने पड़ोस के डॉ एजाज़ क्लिनिक से ट्रीटमेंट कराया और अपनी गाडी दुरुस्त करके को क़ैसरबाग़ के मशहूर मामू मकेनिक के यहाँ अपनी गाडी बनवाई. पुरे 900 रूपये का चुना लग गया....
अब आप सोच रहे होंगे कि यह आपबीती सूना कर कहना क्या चाहता है....
तो भैया मैं आपको बता दूं अगर मैंने हेलमेट नहीं लगाया होता तो मेरा सिर पके खरबूजे की तरह फट गया होता जब टैक्सी का बम्पर मेरी खोपड़ी से टकराया था...
ब्लोगर बन्धुवों अगर आप बाईक चलाते वक़्त हेलमेट यूज़ नहीं करते तो करना शुरू कर दीजिये क्यूंकि हेलमेट पर खर्च की गए क़ीमत सिर्फ एक टक्कर में ही वसूल हो जाती है...
अगर हेलमेट न होता तो पता नहीं मैं किस अस्पताल में पड़ा होता !!!

1 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

समाजोपयोगी अपील,
आपका साधुवाद मित्र.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP