जन गण मन की दुर्दशा

सोमवार, 25 जनवरी 2010

विजय विनीत


जन गण मनके अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ।
तेरी दशा दुर्दशा पर अब नहीं कोई शरमाता । ।
गदारोंसे पटा पडा है देस का कोना कोना ।
हंसी और किलकारी गुम हुई बचा सिर्फ अब रोना ॥
उसका यहाँ सम्मान हो रहा जो करता अपमानित ।
वहीँ यहाँ पूजा जाता जो तुझ पर दाग लगता ॥
जन मन गण के अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ॥
तेरे घर में नया नया है होता रोज घोटाला ।
दूध नहीं मिलता गावों में मिलाती है मधुशाला ॥
कोई चीनी कोई यूरिया खा गया कोई चारा ।
भोला चेहरा लेकर फिर भी बने है सब बेचारा ॥
बेशर्मी की हद करके हर कोई है मुसकाता।
जन मन गण के अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ॥
सरस्वती पुत्रों का पग पग होता यहाँ अनादर ।
हंश मोर की जुबा बंद चीखें उल्लू चमगादर ॥
हर घर की मुंडेरों पर तक्षक नागों का डेरा ।
सोचो कैसा हमें मिल रहा है अब सुखद सबेरा ॥
क्रन्दन रुदन चीख चिल्लाहट भूले नहीं भुलाता ।
जन मन गण के अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ॥
जय हो भय हो मिलकर के अब फीलगुड करते हैं ।
अब चरखे का अर्थ बदल कर रत दिवस चरते हैं ॥
मोटा करना चाह रहें सब नोटों के बण्डल को ।
पाल रहे हैं पोस रहे हैं सब कसाब अफजल को ॥
जिसे देखिये लोकतंत्र को धकियाता मुकियाता ।
जन मन गण के अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ॥
सत्ता की गलियों में घुस गए गुंडेचोर मवाली ।
विधि विधान को निगल रहें हैं बाहुबली बलशाली ॥
काला अक्षर भैस बराबर मिलकर हुकुम चलायें ।
पढ़े लिखे लोगों को वो उंगली पर नाच नचायें ॥
।त्राहिमाम कर गिरा पडा हैं संविधान मिमियाता ॥
जन मन गण के अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ॥
बहुजन और सर्वजन की हालत पूछों जन जन से ।
किसको चिंता आज यहाँ हैं अब जन गण के मन से ॥
संसद और विधान सभा में होता ऐसा खेल ।
बड़े बड़े करतब वाले भी हुए मदारी फेल ॥
बनकर गाँधी फिर से कोई आकर राह दिखाता ।
जन मन गण के अधिनायक हे भारत भाग्य विधाता ॥
फोन ९४१५६७७५१३ सोनभद्र उत्तर प्रदेश

1 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

भाई,
आपने राष्ट्र गान का सही चित्रण किया है,
वस्तुस्थिति ठीक ऎसी ही है.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP