ओबामा महोदय पुणे में हुए हालिया विस्फ़ोट मे दिलचस्पी ले रहे हैं

गुरुवार, 18 फ़रवरी 2010

यार सुबह सुबह दिमाग का दही हो गया। नयी बात है कि अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा महोदय पुणे में हुए हालिया विस्फ़ोट मे दिलचस्पी ले रहे हैं और भारत की इस विषय पर मदद करना चाहते हैं। ओबामा महोदय चाहते हैं कि उनके देश की गुप्तचर संस्था की मदद इस मामले को सुलझाने के लिये ले ली जाए। सारी दुनिया जान गयी है कि भारत में मुंबई हमलों का एक मास्टर माइंड डेविड हेडली(जो कि दर असल दाउद जिलानी है, पाकिस्तान का रहने वाला है जिसे ये हेडली नाम अमेरिकी संस्था एफ़।बी।आई। ने ही दिया है) को अपने पंखों में आश्रय देने वाला अमेरिका भारत और बाकी देशों के लिये कितना मददगार है। ओबामा अंकल से तो मदद के लिये दलाई लामा भी कह रहे हैं लेकिन उनकी मदद नहीं करेंगे, सूरमा भोपाली स्टायल में खांमखां ही हमारी मदद पर आतुर हुए पड़े हैं ताकि हेडली जैसे बाकी बचे आतंकियों को भी भारत से सुरक्षित निकाल कर अपने पंखों में छिपा लें।
और यार वैसे भी अगर आतंकी पकड़ में आ भी जाते हैं तो हमारे देश की न्याय व्यवस्था उसे दामाद बना कर रखती है ओबामा अंकल को चाहिए कि वे हेडली को भारत को सौंप दें फिर देखें कि हमारी सरकार उसकी कैसी खातिरदारी करती है जैसे कसाब की कर रही है।
जय जय भड़ास

3 टिप्पणियाँ:

vishnu-luvingheart ने कहा…

sahi kaha aapne....
uski niyat to yahi hai ki kese bhi karke yahan chhupe atankiyo ko nikaal lage aur apne kisi mission me shamil kar le jese Osama ko kiya hai....
ye bhi sahi hai humari sarkaar pakad ke bhi atankiyo ka kuchh nahi karti fir kandhaar jese hadse hote hai....

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP