सर्व श्री अन्तर सोहिल, दीनबंधु जी

मंगलवार, 1 जून 2010

आपकी जिज्ञासा को शांत करने के लिए मैं उक्त पोस्ट लिख रहा हूँलोकसंघर्ष एक पत्रिका है जिसको उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद से एक समूह द्वारा प्रकाशित किया जाता हैइस समूह के कुछ लोग जन समस्याओं को लेकर संघर्ष भी करते रहते हैंश्री सोहिल साहब ने पूछा है कि आप एक ही पोस्ट को कई सामुदायिक चिट्ठों पर क्यों प्रकाशित करते हैंमेरी अपनी समझ है (हो सकता है गलत हो ) बात ज्यादा से जयादा लोगो तक जाए इसलिए पोस्ट को विभिन्न सामुदायिक ब्लोग्स पर प्रकाशित किया जाता हैकुछ सामुदायिक ब्लोग्स पर शुरुवाती दौर में मैंने स्वत: लिखना शुरू किया था और कुछ सामुदायिक ब्लोग्स ने अनुरोध किया था कि लोकसंघर्ष कि पोस्ट्स वहां भी प्रकाशित की जायेंलोकसंघर्ष पत्रिका में 95% आलेख मौलिक रूप से तैयार कराये जाते हैं और पत्रिका में छपे हुए आलेख कॉपीराईट मुक्त हैं इस बात कि घोषणा प्रति अंक में प्रकाशित भी की जाती है

nice का हमारा तात्पर्य सिर्फ अच्छा से हैहमने जब ब्लॉग शुरू किया था तो शुरुवाती दौर में टिपण्णी लिखीं जो चिट्ठाकारों के विचारों के विपरीत थींयहाँ पर ज्यादातर लोग विचारों का समर्थन चाहते हैं की मत भिन्नता इसलिए अच्छा होता है कि nice लिख दोउपस्तिथि भी दर्ज हो गयी और विवाद में भी नहीं पड़ेवैचारिक विवाद तो अच्छा होता है लेकिन जब वह व्यक्तिगत स्तर पर और ओछी बातों पर जाता है तो उसका कोई औचित्य नहीं रहता हैजिस nice और welcome किसी और का लिखना समझ रहे हैं वह सही नहीं हैमैंने स्वयं ही लिखा हैउन भाई साहब का गुस्सा अनायास झलक रहा है नकाब उतार देंगे, नंगा कर देंगे, हरा देंगे, बेइज्जत कर देंगे और यह सब सारी चीजें उन्होंने पहले से तय कर रखी हैं तो हम क्या आप भी उनको नहीं रोक पायेंगेउनको जितनी भी गालियाँ लिखनी हैं वह अवश्य लिखेंगे हम चाहे जितनी सफाई देंइसी कारण से स्वागत लिख दिया है और जब उन्होंने दूसरी पोस्ट बड़ी मेहनत से तैयार कर लिखी तो nice लिख दिया

श्री अनोप मंडल साहब के सम्बन्ध में मेरी बात डॉक्टर रूपेश श्रीवास्तव साहब से बात हुई थी की राजस्थान में यह लोग अच्छा कार्य कर रहे हैंरही बात जैन धर्म की मैं धार्मिक विवाद में नहीं पड़ना चाहता हूँ लेकिन श्री अनोप मंडल जी द्वारा रखी गयी कुछ बातों पर जब हमने अपने जैन मित्रों को ध्यान से देखा तो सत्य प्रतीत हुआ और जो की निकटतम सम्बन्ध के मित्र थे उन्होंने बात-चीत में बहुत सारी बातें स्वीकार भी की
श्री अंतर सोहिल साहब जी दीनबंधु जी मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की अपनी बात को आप के समक्ष कुछ हद तक रखने में सफल हुआ हुंगा


साभिवादन ,

आपका
सुमन
लो क सं घ र्ष !

3 टिप्पणियाँ:

अजय मोहन ने कहा…

सुमन जी आपने जो कुछ भी लिखा है व्यवसायिक सीमा के कारण स्पष्ट न हो कर भी उत्तर जैसा लग रहा है। पालिटिकली करेक्ट रहने की सोच आपको बाध्य कर रही है कि आप विवाद(भले ही वह समाज और देश की प्रगति के हित में हो) से बचने के लिये सबको बुखार की दवा NICE दे देते हैं। आपने लिखा कि डा.रूपेश श्रीवास्तव और आपके जैन मित्रों ने आपको बताया कि अनूप मंडल द्वारा कही अधिकतर बातें आपके अनुभव से सही हैं। क्या डा.रूपेश जी ने आपसे कहा है कि जैन असुर राक्षस होते हैं या आपके मित्रों ने स्वीकारा है कि वे राक्षस हैं या आपको जो हार्ट अटैक हुआ है वह उनके कारण हुआ है??? जैन मित्रों ने क्या क्या स्वीकारा है मेहरबानी करके अपने साफ़ सुथरे ब्लाग पर न लिख कर कम से कम भड़ास पर तो दुनिया को बताएं कि यहां भी आप धार्मिक विवाद में नहीं पड़ना चाहते????
जय जय भड़ास

अन्तर सोहिल ने कहा…

आदरणीय सुमन जी
आप बिल्कुल सफल हुये हो जी
और आपकी यह बात सही और सच्ची लगी कि "यहाँ पर ज्यादातर लोग विचारों का समर्थन चाहते हैं न की मत भिन्नता"

प्रणाम स्वीकार करें

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

मुझे कल एक प्राइवेट नंबर से फोन आया कि मैं ही किसी दूसरे नाम से वकील साहब के पीछे पड़ गया हूं। उस बंदे को समझाने की कोई जरूरत नहीं थी इसलिये उसे अपने अंदाज में उत्तर दे दिया। बस इतना बताना है कि डा.रूपेश श्रीवास्तव को किसी मुखौटे की जरूरत नहीं है हमने तो चीफ़ जस्टिस रह चुके बन्दे की भी भड़ास के मंच पर खुल कर उधेड़ी है,राहुल गांधी से लेकर बलुआ और रजुआ ठाकरे की जो बात पटी नहीं उस पर भड़ास निकाली है।
सुमन जी जो कह रहे हैं उसे भी पढ़ रहा हूं और संजय कटारनवरे ने जो कहा उसे भी पढ़ा है साथ ही अनूप मंडल और अमित जैन को भी पढ़ा है और अपनी बात कही है इसमें मुंह छुपा कर क्यों बड़बड़ाना? यही तो लोकतंत्र की आत्मा है। आप सब जानते हैं कि यही वह मंच है जहां कई बार लेखकों ने संचालकों तक को गालियां दी हैं और उन्हें बाकायदा प्रकाशित करा गया है ताकि विचार विमर्श से गलतफ़हमियां दूर करी जा सकें न कि कूटनैतिक तरीके से चुप्पी साध ली। वकील साहब ने भी चुप्पी नहीं साधी बल्कि उत्तर दिया है ये बात अलहदा है कि आप संतुष्ट हैं या नहीं। यदि आप संतुष्ट नहीं हैं तो विमर्श आगे बढ़ाइये।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP