रणधीर सिंह सुमन भूल गये nice लिखना,मुंहचोर सिद्ध हुए

गुरुवार, 10 जून 2010

मैने लिखा था कि मैं रणधीर सिंह सुमन के लोकसंघर्ष की जनहित की नौटंकी का असल चेहरा सामने ला दूंगा। इस आदमी से सवाल करे गए थे जिनके उत्तर देने में इस बंदे ने अपना कांइयांपन जारी रखा है। आप सब देख रहे हैं कि जब से मैंने इसकी असलियत सामने लानी शुरू करी है तब से ये अनूप मंडल की पोस्टों पर चुप्पी साध गया है वरना वो लोग कुछ भी लिखते थे तो ये आ जाता था अपनी नाइस की टैबलेट लेकर लेकिन अब गायब है। साफ़ है कि इसमें विमर्श में उतरने का साहस नहीं है ये एक नाटकबाज आदमी है जो कि इस बात का दिखावा करता है कि ये जनता का हित चाहता है इसका दिखावटी और बनावटी प्रेम सिर्फ़ मुसलमानॊं तक ही सीमित है। धूर्त व्यक्ति को कहीं भी पुलिस द्वारा फ़र्जी मामले बना कर फंसाए हिन्दू आदि दिखते ही नहीं हैं। देश की आजादी के बाद से ऐसे बहुरूपिये नेता बन कर सामने आ गये हैं हमें इनसे पीछा छुड़ा कर इनकी जगह दिखानी होगी
पिछली पोस्ट में इन महाशय का नकाब नोचा था
अगर साहस है तो बताओ रणधीर सिंह सुमन कि आप क्या हो मार्क्सवादी,लेनिनवादी या माओवादी किस किस्म के साम्यवादी हो तुम????

जय भड़ास
संजय कटारनवरे
मुंबई

2 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

संजय भाऊ तुम्ही तर हात पांय गंगाजल ने धोउन सुमन जी चे मागेच लागले। आता बघा बरा हे काय उत्तर देतात,वाट पाहतो
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP