हिन्दुओं मुसलमानों तुम्हें लड़ाने वाले राक्षस दूसरे नहीं नंगे जैन हैं

गुरुवार, 29 जुलाई 2010



मुस्लिम लेखक और शोधकर्ता हिन्दू धर्म गृन्थों पर मीनमेख निकालते हैं और हिन्दुओ को मुस्लिम गृन्थों से चिढ़ होती है। जबकि दोनो धर्मों के मूल में एकेश्वरवाद और ईश्वर को निराकार स्वीकारते हुए देश और काल के अनुसार जीवन जीने की बेहतर तरीके पर नीतियां बताई गयी हैं। शैतान या शैतानी फ़ितरत वाले उसके नुमाइन्दे यानि राक्षस हमेशा से इस बात के लिये लगे रहते हैं कि मानव एक दूसरे से मिल कर प्रेम से न रहें,आपस में खून खराबा होता रहे और नफ़रत जागी रहे।
सारे विद्वान दुनिया भर की बहस मुबाहिसा करते हैं चाहे वह डा.अनवर जमाल हों या सुरेश चिपलूणकर कि ये गलत लिखा है वो सही लिखा है लेकिन किसी ने साहस न करा आज तक ये जानने का कि जब इन धर्मों में आमूल चूल बदलाव आ रहे थे यानि हिन्दुओं में मूर्तिपूजा घुसाई जा रही थी और मुस्लिमों में सूफ़ी संतों की दरगाहों पर सजदा करवाना मजहबी बात बतायी जा रही थी तब जैन क्या कर रहे थे। ये ही वे राक्षस हैं जो हर हिंदू संगठन में शीर्ष के पदाधिकारी बने बैठे हैं जबकि ये नीच राक्षस हिन्दू तो हरगिज़ नहीं हैं।
देख लीजिये कि गुजरात में फ़र्जी मुठभेड़ में एक मुस्लिम दम्पत्ति सोहराबुद्दीन को मरवाने में भी गुजरात के गृहराज्य मंत्री अमित शाह न हिंदू है न ही मुसलमान वह है जैन राक्षस। खुद सोचिए
जय नकलंक देव
जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

मनुज ने कहा…

शोहराबुद्दीन शेख एक मुसलिम महात्मा थे, जिनको जिनको महात्मा गांधी जी समक्ष माना जाता है, उन्होने कभी कोई अपराध नही किया। हथियारों की तस्करी से भी उनको कोई लेना देना था, न ही महात्मा शोहराबुद्दीन के घर के पास में कुऎं में ए के ४७ राईफ़ल का कोई जखीरा था वो तो नरेन्द्र मोदी ने पुलिस के साथ मिल कर उसे बद्नाम करने के लिये सजि...स रची थी, एक महात्मा को मुठ्भेड में मारने वाली सरकार के सभी मंत्रीयो व आई पी एस अधिकारियो को कम से कम फ़ासी तो होनी ही चाहिये

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP