कभी ऐसे नेताओ का भी स्टिंग ऑपरेशन करो जो सरकारी खर्चे पर चुपके चुपके अफजल गुरु जेसे देश-भ्रष्टो को मिलने जाते है

सोमवार, 13 सितंबर 2010

कभी ऐसे नेताओ का भी स्टिंग ऑपरेशन करो जो सरकारी खर्चे पर चुपके चुपके अफजल गुरु जेसे देश-भ्रष्टो को मिलने जाते है


अभी थोड़े दिवस पहले हमारे महान धर्म-निरपेक्ष राष्ट्र के स्वतन्त्र और निष्पक्ष मीडिया चेनलों ने स्टिंग ऑपरेशन किए, हमारी फौज के तोपों के मुह बंद है लेकिन मीडिया के केमरे आग उगल रहे है, एक क्रांति आ गयी हे, धर्म-निरपेक्ष राष्ट्र मे ? वाकई उनके द्वारा किए जा रहे धार्मिक सुधार कार्य स्वागत योग्य है, कम से कम धार्मिक सुधार की कोशिश की लेकिन जब हम इन स्टिंग ऑपरेशन से परे थोड़े शांत हो कर सोचते है तो यह पाते है की सभी सुधार कार्य ( स्टिंग ऑपरेशन ) सिर्फ एक धर्म विशेष के लोगो के लिए ही क्यो ? आइए आज हम एसे ही एक मिडियाई समाज सुधारक का इंटरव्यू मुफ्त मे लेते है । जो अभी अभी मीडिया की पढ़ाई पूरी कर के उस महा-सुधार क्रांति मे कूदने जा रहा है, शायद आपको पसंद आए !
  • स्टिंग ऑपरेशन हमेशा एक धर्म विशेष के लिए ही क्यो ?
  • ये अंदर की बात है ताकि नेताओ से शाबाशी मिले। आजकल मीडिया "कॉम्पिटीशन" कितना बढ़ गया हे ना ? मार्केट मे बने रहने के लिए रिस्क लेना पड़ता है बॉस ?
  • कभी ऐसे भी स्टिंग ऑपरेशन करो जहा कौनसी फलाना अभिनेत्री कौनसे सेक्स रेकेट मे लिप्त है, या पहले थी ? जो कभी कभी टी वी पर सच्चाई की बाते भी करती है, फिर "डील" के ऊपर "डील साइन" करती है, पहले हजारो मे ? अब लाखों मे ?
  • नहीं, ऐसा नहीं कर सकते है, क्योकि इससे हमारे अभिनेताओ से संबंध खराब होते है, ये तो सभी को पता है, बताने की क्या जरूरत। वेसे भी नाम और "केरियर" खराब होगा उनका । अभी पिछले दिनो एक नौकरानी ने इज्जतदार अभिनेता पर बलात्कार के आरोप लगाए थे । आखिर सबको सच्चाई पता चल गयी ना ? (सबको पता है नौकरानी शायद करोड़ पति हो गयी होगी )
  • कभी ऐसे भी स्टिंग ऑपरेशन करो जहा कौनसी मॉडल पैसो के लिए किस हद तक जाती है?, कौनसे कौनसे नशे के रेकेटों से जुड़ी है? ढोंगी स्वयंवर रचाने वाली पवित्र और नाबालिग "आइटमों" को भी आपके पवित्र सुधारक पर्दे पर लाओ ?
  • नहीं, क्योकि इनके बिना बढ़िया रेटिंग नहीं मिलती ना, हमे उनके कार्यक्रम तो दिखाने पड़ते हे ना, वेसे भी इंडिया मे एक वर्ग (category) एसा भी है जो यह भी नहीं जानता है की भारत का राष्ट्रपति कौन है लेकिन उसे यह जरूर पता है की फलाना सुपर स्टार कहाँ रहता है और उसकी कौनसी फिल्म आ रही है और वे झोपड्पट्टी मे भी टीवी जरूर देखते है, भले ही एक समय का खाना नसीब न हो ? उनका भी तो ख़्याल रखना पड़ता है ना ? और फालतू समय मे विज्ञापन लाने के लिए गाना बजाना / सब दिखाना होता है ना ? वेसे आपको इनसे क्या दुश्मनी है ? वे तो अपना केरियर बनाती है ना ? और वेसे भी वे सभी सेकुलर है आपकी तरह । (भले ही समाज से, युवाओ को उससे नुकसान हो, वे बिगड़ें, उन्हे कुछ भी हासिल न हो, सिवाय बरबादी के )
  • अच्छा, क्या आप जनता को बताएँगे की कितनी अभिनेत्रियाँ, "आइटम गर्ल", सेक्स रेकेटों और प्रोस्टिट्यूशन मे पकड़ी गयी और पुलिस के इतिहास मे वे दर्ज हो गयी, लेकिन मूर्ख जनता को आपने बताया ही नहीं। क्या ये समाज सुधार और सूचना अधिकार का हिस्सा नहीं है ? हर आदमी थोड़े ही rti के ऑफिस मे जाएगा ?
  • क्या मुसीबत है बार बार एक जेसे ही सवाल....। नहीं, क्योकि इससे उनकी बदनामी होगी और भविष्य और "केरियर" पर खतरा पड़ेगा और हमारे "बिज़नस" पर बुरा असर पड़ेगा
  • कभी ऐसे भी ऑपरेशन करो जहा पर विदेशी कम्पनियाँ भी अवेध ( सरकारी हिसाब से वेध ) कारोबार मे शामिल हो कर मिलावटी और वस्तुए बाजार मे खपाती हो ? और ऊपर से वे ब्रांड और विज्ञापन का महंगा चोला लगाते है ( ताकि शुद्ध लगे ), लेकिन दुसरें शुद्ध काम कर के भी उतना मुनाफा नहीं कमा पाते या पकड़े जाते है !
  • अरे पागल हो गए हो, विदेशी कंपनियो पर केसे लांछन लगा सकते हो, उनसे तो हमे आमदनी होती है, हम विज्ञापनो के लिए किसी भी हद तक जा सकते है चाहे सुबह के समय मे धार्मिक प्रवचन के साथ साथ काँडोम की विज्ञापन हो, या शाम को परिवार के साथ मे मिल कर खाने के समय सेनेटरी पैड के विज्ञापन हो (भले ही वे कंपनियाँ विज्ञापन मे मिलावट करती हो )
  • कभी ऐसा भी बताओ जनता को की ये हमारे देश भक्त क्रिकेटर, और अभिनेता जो बड़े उपदेश देते फिरते है, टिप्पणियाँ करते है, जिसमे से कितनों ने घर पर ए-के ४७ राइफलों को भी नजदीक से देखा हो, और किसी ने तो भारत मे प्रतिबंदित जानवर का शिकार कर के खाया हो । भले ही वे कोक, पेप्सी, फेंटा, मिरिंडा, स्प्राइट, कॉलगेट, पेप्सोडेंट, वोक्स वेगन, हुंडाई, लक्स, डेटोल, जॉन्सन एंड जॉन्सन, लेज, कुरकुरे, बूस्ट, एडीडास जेसे विदेशी ब्रँडो के विज्ञापन करते हे । भले ही भारत मे साल मे २५० से अधिक घरेलू इकाइयाँ बंद हो जाती हो । रास्ते पर आ जाते है स्वदेशी । तब इनकी देश भक्ति कहाँ जाती है । क्या उनको पता नहीं है इस विचार के बारें मे, लेकिन ऐसे भी लोग है इस देश मे जो पूरी उम्र स्वदेश की सेवा मे लगा देते है बिना बीवी बच्चो के, ऐशों आराम के, लेकिन वे गुमनाम ही रहते है पूरी उम्र... क्यो ?
  • "वौट नॉनसेन्स", अरे तुम भी रूढ़िवादी है, जब जनता विदेशी समान खरीद रही है तो भला इन्हे विज्ञापन से क्या परेशानी है ? भैया ये लोग स्टार है और हम लोग इनकी पेरो की जुतिया, समझे । ये लोग जो करे वो हमे मानना पड़ेगा । जो बोले वह करना पड़ेगा । अरे भैया ये स्वदेश-वदेश सिर्फ फिल्मों के नाम के रूप मे अच्छे लगते है, क्या होता है ये स्वदेशी पालन दुनिया ग्लोबल हो रही है और ये पूरी उम्र स्वदेश से जी लगाए है , खाओ पियो ऐश करो ! खुद खाओ दूसरों को खिलाओ ! एक बात और स्टार हमसे और हम स्टार से है, हमारे बिना स्टार-विस्टार कुछ नहीं होता है
  • अरे लेकिन सरकारी लेब ने तो यह सिद्ध कर दिया हे की ये कोल्ड ड्रिंक जहर है फिर भी ये लोग प्रचार करते है और देश भक्त बनते है, अरे ये कोल्ड ड्रिंक पानी का कितना पीने के पानी का कितना दुरपयोग करती है, और ये सेलेब्रिटी लोग "पानी-बचाओ" विज्ञापन करते है, भाई ये बात तो हमे हजम नहीं हुई |
  • अरे भाई तुम्हें इनसे क्या एलर्जी हे ? प्रश्न पूछना हे की नहीं, तो ऐसे प्रश्न मत ना पूछो हमे । मेरे पास समय कम है
  • अच्छा आप ऐसा स्टिंग ऑपरेशन करो जहां पर लड़कियां ग्रुप बना कर रेव / सेक्स / नशा पार्टियां करती है और मोबाइल मे पॉर्न फिल्मे रखती / देखती है। इससे तो समाज का और माँ बाप का काफी भला होगा
  • छोड़िए ना, ये तो सभी करते है, ये तो आजकल आम है, ये तो काम ये महिला आयोग का और पुलिस का है, और ये जवानी मे नहीं करेंगे तो बुढ़ापे मे करेंगे ? क्या आपने कॉलेज मे ऐसा नहीं किया होगा भला ? हमें तो ऐसी खबर दो जहा पर शराबी महिलाओ / लड़कियों की हिन्दू ग्रुप पिटाई कर रहे है ( इससे सरकार मे हमारा रुतबा बढ़ेगा ), मासूम, बिचारे और औरतों को छेड़ते हुए मनचलो की जनता पिटाई कर रही है । मॉरल पुलिस बनने का अधिकार सिर्फ हमे दिया है सरकार ने, तभी तो आजकल कम से कम घोटाले उजागर हो रहे है, अब हमारा काम स्टिंग ऑपरेशन कर के रेटिंग कमाना हे तो केसे भी कर के किसी न किसी का तो स्टिंग करना पड़ेगा ना ? तो हमने किसी धर्म विशेष को ही चुना जो बहुत सॉफ्ट है, जिसमे सब सेकुलर और उदार होते है, किसी को कुछ नहीं कहते है, एसी खबरों को खबरे कहते है
  • क्या आप कॉमनवेल्थ के घोटालो का स्टिंग ऑपरेशन करेंगे ?
  • नहीं, नहीं, ये बहुत "सेंसिटिव्ह मेटर" है, पहले कॉमन वेल्थ (गुलामी के प्रतिको ) को सम्पन्न तो होने दो, अभी सरकार की अनुमति नहीं है वहाँ जाने की, और वेसे भी विपक्ष हमला बोल लेगा सरकार पर, सब खेल बिगड़ जाएगा एवं सरकार का और जाइंट वेंचर खराब हो जाएगा
  • कभी किसी मिशनरिज केन्द्रो का भी स्टिंग ऑपरेशन करो, पता करो ना की वहाँ पर क्या चल रहा है और हर साल मे कितने हिन्दू से ईसाई बनाए जा रहें है ? उनके आगे के क्या क्या उद्येश्य है ? आगे कितना टार्गेट है, रोज रेलगाड़ियो मे कितने मिशनरियों को भेजा जाता है लोगो को उपदेश देने के लिए ?
  • नहीं उन्होने तो हमे न. 1 बनाया है, क्योकि हम उनके खिलाफ हमेशा अच्छी खबरें देते है, क्या आपको पता नहीं है ईसाइयो पर हमले हुए थे तब हमने उनका कितना दिल जीता था ? यही कारण हे की आजकल अँग्रेजी चेनलों की संख्या बढ़ रही है ( धर्म प्रचार को लेकर ) वेसे भी ये भी कोई महत्वपूर्ण विषय नहीं है, आजकल धर्मांतरण तो आम है। सेकुलरिस्म का हिस्सा है, सिंह से शाह, जमनालाल से जोसफ, लल्लू से लॉ, बबलू से बौबी. इसमे कैसी बुराई है ? दुनिया ग्लोबल हो रही है भाई साहब । कहाँ हो आप ?
  • कभी उन आतंकवादी स्थलो का भी स्टिंग ऑपरेशन कर लिया करो जहा पर हमलो की योजनाए बनती है, जहा पर हथियारो के झखीरे है, दंगे मे अचानक कहाँ से ए-के ४७ राइफलें निकल आती है ? कभी इंडियन मुजाहिद्दीन जेसे और भी नेटवर्क का भी पर्दा फ़ाश करो
  • ये काम तो सुरक्षा एजेंसियो का है हमारा नहीं ! और उनमे हमारा कोई "फाइदा" नहीं है, उल्टा नुकसान है.... !...?? ( कोई विज्ञापन नहीं देगा रेटिंग गिर जाएगी, हमारी )
  • ऐसे स्थानो का भी स्टिंग करो जहा पर जर्मन बेकरी के जेसे न जाने कितने षड्यंत्र होते है, और कसाब जैसे पहले से ही हथियारो के ढेर छुपाते है, आने से पहले ? माफ करना मे मालेगांव के आरोपियों का नाम लेना भूल गया, नहीं तो मुझे कट्टर कहेंगे आप, मैं भी सेकुलर हूँ । सलमान खान की कसम ! सेकुलर हूँ मे !
  • हमने कहाँ ना, ये तो सब काम सुरक्षा एजेंसियो का है ? हमे उनसे खतरा मोल नहीं लेना, देखा नहीं आर.एस.एस ने एक मीडिया चेनल को केसे फोड़ कर रख दिया
  • तो, ऐसे जगह स्टिंग ऑपरेशन कर के दिखाओ जहा पर किसी धर्म विशेष के लोगो को ही अनुमति है जनता को बताओ की वहाँ ऐसा क्या हो रहा है की वह स्थान दूसरे धर्म के लोगो के लिए प्रतिबंधित है, हिन्दू धार्मिक स्थल ( माफ करना बाकी धर्म स्थान ) तो सेकुलरिस्म की जीती जागती मिसालें होते है,
  • नहीं हम ऐसा नहीं कर सकते ये बहुत "सेंसिटिव्ह मेटर" है, इससे उनकी धार्मिक भावनाए आहात होती है, वेसे भी वे सताये हुये, निर्दोष है । ये हमारे "स्ट्रेटेजी" मे नहीं है, इससे सिर्फ नुकसान ही नुकसान है, कोई दर्शक इसे पसंद नहीं करेगा । ( एसे मामलो मे देश पूरा सेकुलर हो जाता है )
  • कभी कश्मीर के अलगाव वादी नेताओ का स्टिंग ऑपरेशन करो जो सरकारी खर्चे पर चुपके चुपके अफजल गुरु जेसे देश-भ्रष्टो को मिलने जाते है
  • हमें सरकार ने अनुमति नहीं दी, ये काम सरकार का है किसको कब सजा देनी है ! वेसे भी अभी तक अफजल का जुर्म साबित नहीं हुआ है ? है ना ?
  • उन अंधेरे स्कूलों मे जहा सिर्फ रात मे ही उजाला होता है, स्टिंग ऑपरेशन करो उन देश द्रोहियों का जो मुंबई पर हमले के तुरंत बाद रिश्वत-खोर , फिक्सरों, पाकिस्तानी खिलाड़ियो को याद करते है, उनका स्टिंग ऑपरेशन करो की वे उनसे कब और कहाँ बाते करते है ?
  • क्या बात कर रहे हो, बात ही तो की हे उन्होने कौनसा हमला कर दिया है, वे तो बड़े स्टार है, हमारे चेनल पर बड़े बड़े विज्ञापन उनके ही तो आते है, और हमें वे सपोर्ट करते है वे, वे तो सेकुलर हे, कौनसे देश-द्रोही है । क्या आपको दिखता नहीं वे टेक्स भरते है सरकार को, करोड़ों का, हमारी कितनी आमदनी होती है उनसे । हमें उनसे संबंध खराब नहीं करने है । हम उनसे है और वे हमसे !
  • बहुत हो गया अब मुझे जाना है ! दूसरे मीडिया "ग्रुप" मे इंटरव्यू है मेरा आज, देर हो रही है ,
  • बस एक प्रश्न, "सिर्फ" एक प्रश्न
  • आप के सुबह सुबह के कार्यक्रम मे आने वाले ज्योतिष विद्वानो, फेंग शुई, वस्तु शास्त्र वालों का भी स्टिंग कीजिये ना ? उनमे से कितनों के ऊपर लेनदारी, ठगी और जमीन से जुड़े केस चल रहे है ?
  • हम्म..... नहीं वे साफ होते है, हम तो उन्हे चुनी हुई पत्तियाँ की तरह और खास चुने हुए बगानों से हम चुन चुन कर लाते है, ये सब बकवास है !

  • आपका बहुत बहुत धन्यवाद सेकुलर मीडिया भाई ! जो हमे अच्छी अच्छी धर्म निरपेक्षता की बातें बताई हमे आपने नए तरीके से सिखाया की कैसे मिल बाँट कर धर्म निरपेक्षता और देश भक्ति की अंधी चादर ओढ़ कर कितने ही "इल्लीगल" और एक वर्ग का प्यार हासिल करने उनको खुशी देने के लिए, रेटिंग हासिल करने के लिए भले ही दूसरे सॉफ्ट वर्ग की भावनाओ को ठेस पहुंचाने वाले कार्य आसानी से किए जा सकते है । वेसे भी एक चेनल को न १ की रेटिंग के लिए कितने करोड़ दर्शको, टीआरपी की जरूरत पड़ती है ज्यादा से ज्यादा १०-१५ करोड़ बस, तब तो यह काम आसान है, हर किसी को यह व्यवसाय करना चाहिए, कोई खतरा नहीं, सिवाय नाम, शोहरत, ऐश, पैसे के...........
मुझे मालूम है तुम इसे यहा ही 'delete' करोगे , और करोगे भी क्यों नहीं आखिर तुम जो ठहरे आज के 'Indian'


http://www.rajivdixit.com for Rajiv Dixit audio and videos lectures.

8 टिप्पणियाँ:

नैना ने कहा…

शनदार लेख है
यहा से लिया गया सांभार, http://www.shreshthbharat.in/

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

नैना जी बात निःसंदेह शानदार है ये आलेख हमें एक ई-मेल के रूप में भेजा गया था। हम मेल को प्रकाशित कर रहे हैं। दूसरी बात कि इस मेल में हिंदी वर्तनी की बहुत गलतियाँ थीं जिन्हें संपादित करना पड़ा। प्रेषक को यदि आप जानती हों तो उन तक ये बात पहुंचा दें कि कम से कम हिंदी की वर्तनियाँ तो शुद्ध लिखें।
बाकी मसाला है जो सब जानते हैं उल्टी नहीं है जो गले में अटकी थी उगल दी गयी हो
जय जय भड़ास

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

प्रशंसनीय, लेख लिखने वाला भी और छापने वाला भी...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

प्रशंसनीय, लेख लिखने वाला भी और छापने वाला भी...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

प्रशंसनीय, लेख लिखने वाला भी और छापने वाला भी...

Vinod K Dangwal ने कहा…

वो सुबह कभी तो आएगी...
जब भारत स्वाभिमान अभियान सफल होगा और स्वामीजी, बालकृष्णजी तथा राजीव जी जैसे कर्मठ योद्धाओं कि मेहनत सफल होगी और देश सच में स्वतंत्र हो जायेगा!
मैं आप सभी की भावनाओं को प्रणाम करता हूँ! मेरी शुभ कामनाएं आप सभी के साथ हैं!
विनोद डंगवाल, नवी मुंबई.

DSC ने कहा…

Bhai Rajeev Ji ko sat sat Naman who has given his life for Bhatat.

DSC ने कहा…

भाई राजीबंजी को सत सत नमन

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP