भोजपुरी के नाम पर पटना में दलाली..

गुरुवार, 17 फ़रवरी 2011


आखिर वही हुआ जिसका अंदेशा था वैसे भी जहाँ दिल्ली के दलाल पत्रकार कि संलिप्तता हो वहां बिना दलाली के कोई भी काम को परवान नहीं चढ़ाया जाता है. बदनाम मोहल्ला का कलुआ अविनाश और समरेन्द्र सरीखे पत्रकारिते के निठल्ले ने भोजपुरी के नाम पर उगाही के लिए महोत्सव का तो आयोजन करवाया मगर इस कार्यक्रम के तहत भोजपुरी से सिर्फ उगाही नहीं बल्कि भोजपुरी को चौराहे पर खड़ा कर जलील करने में कोई कसर नहीं छोड़ी.


"हे गंगा मईया तोहे पियरी चढ़ईबो" यानी की भोजपुरी सिनेमा का एक पारस जिसने वाकई में भोजपुरी को एक पहचान और आयाम दिया. आज भी जिस सिनेमा को भोजपुरी सिनेमा जगत में पूज्य दर्जा प्राप्त है के नाम पर आयोजकों ने ना सिर्फ भोजपुरी को लज्जित किया अपितु बाकायदा इस सिनेमा के निर्माता और निर्देशक और भोजपुरी सिनेमा के महापिता " विश्वनाथ प्रसाद शाहाबादी" को भी बाजार के हाशिये पर रख दिया.

जी हाँ इस फिल्म के बिना भोजपुरी सिनेमा अधुरा ही नहीं अपितु अपूर्ण रहेगा, सिनेमा का प्रदर्शन करने के लिए आयोजकों ने स्वर्गीय शाहाबादी जी के पुत्र राजकुमार शाहाबादी से बात कि और राजकुमार जी को कार्यक्रम में बुलाना तो दूर आमंत्रण तक नहीं दिया गया. उल्टा आयोजकों ने जिनमे आयोजक कम दलाल लोग ज्यादा थे ने राजकुमार जी पर आरोप मढ़ दिया कि राजकुमार जी पैसे की मांग कर रहे थे.

राजकुमार जी ने बताया कि भोजपुरी के नाम पर आयोजन करने वाले इन लोगों का बिहार और भोजपुर के साथ भोजपुरी से कोई लेना देना नहीं है, व्यवसायिक नजरिये वाले इन लोगों ने बाजार में भोजपुरी सिनेमा को बलिदान कर दिया है.

आने वाले 22 मार्च से बिहार सरकार भी भोजपुरी फिल्म महोत्सव का आयोजन करने वाली है. क्या सरकारी महकमा भोजपुरी कि पवित्रता बरकरार रखेगा जिसे दिल्ली के दलाल आयोजकों ने धूमिल कर दिया.

3 टिप्पणियाँ:

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

बिल्कुल सही लिखा है रजनीश भाई आजकल पत्रकारिता का हर जगह कमोबेश यही हाल है।

Chhaya ने कहा…

बिल्कुल सही लिखा आपने पत्रकारिता भ्रमित है या लोगों को भ्रमित कर रही है।

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

पत्रकारिता बन कई है सहुकारिता, जहा हो फायदा वो अब पत्रकारिता का कायदा

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP