अगस्त कं्राति 1942 की याद में---मेले से महरूम एक शहीद की चिता-

शनिवार, 13 अगस्त 2011

अगस्त कं्राति 1942 की याद में---मेले से महरूम एक शहीद की चिता-

कौन याद रखता है अंधेरे वक्त के साथियों को सुबह होते ही चिरागों को बुझा देते हैं। आज 10 अगस्त के बेशर्म सन्नाटे के गुजरने के बाद यह शब्द श्रद्धांजलि समर्पित है एक ऐसे जाबांज शहीद को जो नामचीन नहीं है लेकिन शहादत के रिवाज में वह अगडा है,पर अफसोस हमे मालूम नहीं।

अपने बुडढे व लाचार मां बाप के सपनों को देश के लिए स्वाहा करने वाले मध्यम वर्गीय परिवेश के इस शहीद की शहादत की याद दिहानी देश को कराना इसलिए जरूरी है कि करो या मरो के आन्दोलन में यह देश का पहला बलिदान था। पर अफसोस कि हमें मालूम नहीं कि वह भी सन 1942 की 10 अगस्त थी।

आगरा के हाथीघाट से जो सडक दरेसी की तरफ जाती है अंग्रेज की पुलिस की कडी नाकेबंदी को चीरता हुआ एक नौजवान आगे बढ रहा था। हाथ में तिरंगा तभी पुलिस की बंदूके गरजी,एक गोली उसकी बांह में लगी वह उठा चला, लेकिन फिर बंदूकों की धांय-धांय सुनाई दी जिसने उस नौजवान का सीना छलनी कर दिया। वह फिर नहीं उठा,कभी नहीं उठा पर अफसोस हमे मालूम ही नहीं।

क्रिप्स मिशन की असफलता के बाद बंबई में 7 अगस्त 1942 को कांग्रेस कार्यसमिति में महात्मा गंाधी बोले थे-कांग्रेस से मैने यह बाजी लगवाई है कि या तो देश आजाद होगा अथवा कांग्रेस खुद फना हो जाएगी। करो या मरो हमारा मूल मंत्र होगा। 8 अगस्त को कांग्रेस कार्यसमिति ने अंग्रेजों भारत छोडो प्रस्ताव स्वीकृत किया। 9 अगस्त 1942 को बंबई में गांधी जी समेत राष्ट्रीय आन्दोलन के सभी बडे नेता गिरफ्तार कर लिए गए। सारे देश में गिरफ्तारी और दमन चक्र पूरे वेग से प्रारंभ हो गया। आगरा में कुछ नेता तो पहले ही पकडे जा चुके थे। कुछ फरार थे। अपने नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में 10 अगस्त को सारे शहर में पूर्ण हडताल थी।

मोतीगंज स्थित कचहरी के मैदान में एक आम सभा का ऐलान किया जा चुका था। सारा शहर अज्ञात भय से आतंकित था और सभी के मन में आसन्न संकट के बादल छाए हुए थे। जनता की सहानुभूति आन्दोलन के साथ ही.......अंग्रेज निजाम के अफसर आम सभा को विफल करने पर उतारू थे। सारे शहर में पुलिस का सख्त पहरा था। वह चौकन्नी थी। अंग्रेज की पुलिस मोटर लारियां सायरन बजाती इधर से उधर दौड रही थी। जमुना किनारे के आसपास बने बगीचे उस दिन सूनसान पडे थे। मोतीगंज के मैदान का मुख्य फाटक बंद था। उसके सामने सशस्त्र सिपाहियों की लंबी कतार मौजूद थी। उनसे आगे कुछ फासले पर इसी तरह की तीन कतार और थी,पास ही डटे हुए थे। पुलिस अधिकारी और सिटी मजिस्ट्रेट। कुछ लोगों को आभास हो गया था कि आज गोली चले बिना नहीं रह सकती।

इसलिए वे चुंगी के सामने वाले रेलवे के मैदान में एक गुमटी के पीछे गोलियों की बौछार से बचने के लिए जा खडे हुए थे। मुख्य द्वार से हटकर पुलिस ने दाएं बांए हो कर तीन तीन कतारों में पोजीशन ले ली। कुछ लोग हाथीघाट जाने वाली सडक पर जमा थे।

कुछ पत्थरों की आड में छिपे हुए तमाशा देख रहे थे। आम सभा करने की जिद पर अडे लोग सडक पर ही इकट्ठा हो गए। कांग्रेस के श्री बाबूलाल मितल को सभा की सदारत सौंपी गई। जैसे ही बाबूलाल मितल बोलने को खडे हुए पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

उनकी गिरफ्तारी से तनाव बढ गया। कुछ लोग उनकी रिहाई करने एवं सभा में बोलने के लिए नारेबाजी करने लगे।तनाव बढता देख पुलिस ने पोजीशन ले ली। उत्तेजित भीड ने पुलिस बल पर कत्तलों (पत्थर के छोटे टुकडों) की वर्षा शुरू कर दी।

पोजीशन लिए हुए सिपाही कत्तलों की मार से इतने भयभीत हो गए कि अपना बचाव करने के लिए पीछे भागते नजर आएं। जनता पत्थरों की चोट मार रही थी और सिपाही भाग रहे थे। जनता ने उन्हें चुंगी के फाटक तक खदेड दिया।

पुलिस ने अब पहले चक्र की गोलियां चलाई,कुछ लोग पत्थर की आड में हो गए।सामने वाली भीड में भगदड मच गई। पुलिस ने दूसरे चक्र की गोलियां दागी।लोग भयभीत हो कर इधर उधर भाग रहे थे, जो लोग स्ट्रेची पुल की तरफ भागे वे वहां तैनात सिपाहियों की गिरफ्त में आ गए। कुछ उत्साही नौजवान गोलियों की परवाह न करके पुलिस पर खुलेआम पत्थर बरसा रहे थे।

पत्थरों की ओट के कारण वे सुरक्षित बचे हुए थे कि तभी परशुराम शर्मा नामक नौजवान तिरंगा हाथ में लिए उठ खडा हुआ। जिस समय उसकी दायीं बांह में पुलिस की पहली गोली लगी वह सामने पुलिस पर पत्थर बरसा रहा था। उसके जमीन पर गिरते ही पुलिस पर पत्थरों की बरसा रूक गई। पुलिस की गोलियां भी अब शांत हो चुकी थी। अंग्रेज पुलिस वाले शहीद परशुराम शर्मा की लाश को मोटर लारी में डालकर जिला अस्पताल ले गए। किसी ने दौड कर छीपी टोला स्थित उसके निवास पर उसकी शहादत की सूचना दी।

बदहवास मां बाप और रोते बिलखते परिजन भी घटनास्थल पर आ गए। उसकी मां के करूण क्रन्दन से मौजूद लोगों के हृदय फट गए थे। सुबह उत्साह में न्निनई (बिना कुछ खाए पीए) ही घर से चल दिया था परशुराम। आज परशुराम के बलिदान का 69वां साल था। लेकिन अफसोस पूरे देश के साथ साथ आगरा भी उसकी याद में नावास्ता रह गया।

जब देश जश्ने आजादी की 64वीं सालगिरह के आमोद में व्यस्त था तब भी इस जाबांज की चिता पर मेले नहीं लगे और आज भी नहीं लेंगे। जश्ने आजादी के जलसों के गीत,कविता,ड्रामें,कव्वालियां और जाने क्या क्या.....शुमार था। पर उनमें परशुराम की यादें नहीं थी।

सभी अपने को एक दूसरे से बडा साबित करने की जुगाड में जीजान से जुटे थे।कल भी परशुराम की जिंदाबाद को कोई हाथ नहीं उठा।......तो हमेशा की तरह आज 10 अगस्त को भी आजादी के विशाल मंदिर की बुनियाद में नीचे गडे परशुराम ने राजनय-विद्रूपता अपनी निरन्तर उपेक्षा एवं अपमान पर जोर जोर से हंसते हुए कहा ही होगा--बौने जब से मेरी बस्ती में आ कर रहने लगे है। रोज कदद्ोकदावत के झगडे होने लगे है। मुझे सोने दो,मत जगाओं वरना,हस्ती के हिसाब होने लगे हैं।

(शशंाक चंद्रशेखर उपाध्याय)
(लेखक--उत्तराखंड सरकार में विशेषकार्याधिकारी मा.मुख्यमंत्री है।)




3 टिप्पणियाँ:

चंदन कुमार मिश्र ने कहा…

इस महान व्यक्ति के बारे में और कुछ जानने की इच्छा है। मुझे मेल द्वारा जानकारी देंगे तो खुशी होगी। अब तो कैसेट हैं, मिठाइयाँ हैं और सब कुछ है, बस वे ही तो नहीं हैं।

veerubhai ने कहा…

यौमे आज़ादी के पर्व पर इस अग्रज शहीद को नमन .शहीद वतन की आत्मा होतें हैं ,भले अब उनकी चिता पर मेले नहीं लगते .उजाड़ पड़ीं हैं कई जगह .समाधि स्थल के गिर्द बेशुमार बेतरतीब घास और झाड़ियाँ (चन्द्र शेखर पार्क ,इलाहाबाद ) उगीं हैं .
साल गिरह मुबारक यौमे आज़ादी की ।
http://veerubhai1947.blogspot.com/

रविवार, १४ अगस्त २०११
संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....

अनोप मंडल ने कहा…

आदरणीय धीरेन्द्र भाई जी आपने सही लिखा है लेकिन आज वही कांग्रेस अपना रूप बदल चुकी है और स्वामी रामदेव व अण्णा हजारे जी के खिलाफ़ लाठी चला रही है।
जय नकलंक देव
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP