फिर शहीद हुवे हम 29/11/08

शनिवार, 27 दिसंबर 2008

अनाथ बच्चे बिलखते
माँ बाप खाली दामन तकते,
फिर कोई फूल चमन से
फिर चमन किसी फूल से
आज महरूम हो गया है ,
फिर पड़ी दरारें आपस में
फिर किसी ने उगला ज़हर है,
फिर खेली गयी होली खून की
फिर शहीद हुवे
भगत चंद्रशेखर अशफाक ,
रोको इन दह्शद-गर्दों को
ये देश की अंधी राजनीति के
पेट से पैदा कुछ कीड़े हैं,
देश बेचने वालों के
ये अन्न दाता हैं
जागो भारत की अब
हम टूटने की कगार पर हैं ,
एक क्रांति और पुकार रही है
सुनो इस पुकार को
आज़ाद करा लो देश
आओ एक बार फिर से
हम सिर्फ क्रांतिकारी बने
एक बार फिर से हम
देश में बदलाव के लिए
संघर्ष करें......,
apka हमवतन भाई गुफरान(AWADH PEPULS FORUM FAIZABAD)

2 टिप्पणियाँ:

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

गुफ़रान भाई,हम सबने मुंबई में निजी तौर पर उस पीड़ा को करीब से झेला है लेकिन हमें आतंकवाद की बुनियादी जड़ें तलाशनी होंगी.....
अवध पीपुल्स फोरम के उद्देश्यों की पूर्ति हो ईश्वर से प्रार्थना है अभी डा.साहब ने बताया कि जनाब बर्नी साहब भी वहां थे ये सोच कर ही खुशी हो रही है कि आप सब भाग्यशाली हैं जो उन्हें देख सुन पाए।
जय जय भड़ास

Ghufran ने कहा…

shuqriya farheen ji allah ka shuqr hai ki ab faizabad me bahot se aise log agey aa rahe hain jo kabhi darte the ummid hai ki jo shuruat ham sabhi ne yahan se ki hai usko pure desh me faila denge bas aap sabhi allah se dua karte rahiye.......thnx ghufran

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP