प्रेम तेरे रूप अनेक !!!!

शनिवार, 7 फ़रवरी 2009

प्रेम नाम है विश्वास का, भरोसा और आस्था के साथ कदम से कदम मिला कर चलने का, जिसमे साथी के शारीरिक सुन्दरता या गैर सुन्दरता, सम्पूर्णता या विकलांगता कोई मायने नही रखता। साथ चलने और कंधे से कंधा मिला कर जीवन को संग बिताने के साथ एक दुसरे को ना कम ना ज्यादा बस प्रेम, शायद ये ही प्यार है।
मैं प्यार को विस्तृत नही कर सकता, इतनी अकाल नही है मेरी मगर इन तस्वीरों से अविभूत हुए बिना नही रह सका सो बस आपके सामने प्रेम के विभिन्न रूपों में से एक रूप ये भी.....


एक परिवार प्यार से मालामाल, मुस्कुराते चेहरे से कमी का कोई आभास नही।



साथी हाथ बढ़ाना, जिन्दगी के हर राह पे हम साथ होंगे सनम।




शरीर से अपूर्णता, मातृत्व से मालामाल। गवाह मुस्कुराता चेहरा।




सम्पूर्ण परिवार, क्या किसी को कोई शिकायत ?




शारीरक विकलांगता मातृत्व में बाधक नही, जिम्मेदारी सहयोग साथ साथ।



क्या ऐसा मातृत्व देखा कहीं ?



विकलांगता ना ही अभिशाप, ना ही इसका कोई गम जब हो मातृत्व का अहसास।



ना को आधा ना कोई पूरा, प्यार से बढ़ कर ना कोई दूजा।



क्या इस मातृत्व में आपको कोई कमी दिखती है ?



एक अविराम यात्रा जिसमे सभी बराबर के साथी, प्यार का अनूठा संगम।


शायद तस्वीर ने मुझे सोचने को मजबूर किया, मैं इस परिवार को सहानुभूति नही दे रहा बल्कि लोगों को कहने की कोशिश कि प्यार साथ हो तो कुछ भी कम नही लगता, इसे ही तो प्रेम की अविरल धरा कहते हैं।

5 टिप्पणियाँ:

manoj dwivedi ने कहा…

Mind fresh ho gaya bhaisaheb. duniya aise logo ke dum par hi kayam hai. apke prayas ke liye dhanyabad....

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

रजनीश भाई मुझे पूरा यकीन है कि प्रेम शारीरिक विकलांगता क्या बल्कि शारीरिक उपस्थिति का भी मोहताज नहीं है। इस पोस्ट के लिये साधुवाद...
जय जय भड़ास

अमित जैन (जोक्पीडिया ) ने कहा…

मन मे हजारो सवाल उठा दिए भाई आपने /
क्या हम जिस प्रेम की बात करते है वो कही भी इस समर्पण के आगे टिकता है /
मेरा सलाम एसे आपसी प्यार और समर्पण के लिए

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

दिल प्रसन्न हो गया और मन पर तमाम जो आग्रह शरीर और प्रेम को लेकर छाए थे इस पोस्ट को देख कर निवारण हो गये। आपको दिल से शुक्रिया....
जय जय भड़ास

अग्नि बाण ने कहा…

बड़े भाई,
रिश्तों की इस शानदार अभिव्यक्ती के लिए तेरे कु भौत भौत शुक्रिया.
स्स्स्साला इस टुच्चे के ज़माने में वीरू रिश्ते की अहमियत ही ख़तम हो रेली है.
बढ़िया दिखाया भाई.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP