अरंधुति राय भी जूता खाने वाले सूची में

रविवार, 15 फ़रवरी 2009

अरंधुति राय भी जूता खाने वाले सूची में बुश के बाद ये गौरव उनको भी मिला
छात्रों ने उनपर जूते बरसाये
क्यों?
उनका विचार है कि कश्मीर पाकिस्तान को दे दिया जाय?
हाय रे तुष्टीकरण

4 टिप्पणियाँ:

चंदन श्रीवास्तव ने कहा…

प्रशांत जी आप अपनी बातें थोडा कायदे से शांत तरीके से और संयमित होकर कहिये. जिस तरह से आप अपनी बात कहते हैं वैसे तो आपको कोई गंभीरता से नहीं लेगा. फिर हर तस्वीर के दो पहलू होते हैं हमें दोनों पहलुओं पर चर्चा करनी चाहिए. इसी भड़ास मंच पर मुनव्वर सुल्ताना जी हैं मेरी राय है आप उन्हें जरूर पढ़ा करें आपकी कई गलतफहमियां दूर होंगी. और इस बात पर ध्यान रखे कि कोई आपकी बात से आहत न हो. मुझे उम्मीद है आप मेरी सलाह पर ध्यान देंगे.

मुनेन्द्र सोनी ने कहा…

चंदन भाई आप यकीन मानिये कि ये सनकी सा प्रतीत होने वाला बंदा अभी आप पर भी तोहमत थोप देगा कि हाय रे तुष्टीकरण.... बात करी तो मुनव्वर सुल्ताना या फ़रहीन नाज़ की.... कोई और नहीं मिला मुसलमानों के सिवाय। ये आदमी शर्तिया सनकी है।
जय जय भड़ास

फ़रहीन नाज़ ने कहा…

वैसे तो तुम भी जूता खाने वाली ही फितरत रखते हो लेकिन अब तक तुम्हें ये सौभाग्य हासिल नहीं हुआ क्योंकि तुम बुश या अरुंधति राय जितने प्रसिद्ध और बड़े नहीं हो.... लिखते रहो एक दिन जरूर जुतिआए जाओगे
जय जय भड़ास

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

भाई प्रशांत,
चांधन भाई की बातों पर गौर फरमाएं, नि:संदेह हम आपको पढ़ना चाहते हैं.
विचार विस्तृत करें.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP