प्रचार माध्यमों ने करा बालमन पर अतिक्रमण......

गुरुवार, 12 मार्च 2009

प्रचार माध्यमों ने अब एक खास किस्म की रणनीति बना ली है वे पहले महिलाओं पर केन्द्रित रहा करते थे जैसे कि कार से लेकर साबुन तक के एडवर्टाइज़ में स्त्री ही नजर आती थी लेकिन अब बच्चे प्रचार के केन्द्र में हैं। प्रचार तंत्र ने बालमन पर अतिक्रमण करना शुरू कर दिया है क्योंकि अब वणिक जन उस सिद्धांत को समझ गये हैं कि बालहठ तो स्त्रीहठ से भी ऊपर मानी जाती है। जीवन बीमा से लेकर शीतल पेय के एडवर्टाइज़ अब बच्चों को केन्द्र में रख कर बनाए जाते हैं। इसका असर भी बाजार पर हुआ है जैसे कि मेरे मित्र श्री येशुदास का छोटा सा बेटा उनकी कमीज खींच कर कहता है कि पापा मुझे ये पीना है जब उन्होंने पूछा कि ये मतलब क्या, तो बच्चे ने तुरंत कहा कि पापा मुझे "ये है यंगिस्तान मेरी जान" पीना है यानि कि पेप्सी......। आप अंदाज लगा लीजिये कि ये एडवर्टाइज़ बच्चों के कोमल मन में कितने गहरे तक घुस कर अतिक्रमण कर चुके हैं।
जय जय भड़ास

3 टिप्पणियाँ:

भूमिका रूपेश ने कहा…

ये खतरनाक हो रहा है बच्चे कोमल और मासूम होते हैं उनकी कोमलता का दोहन करे जाने के खिलाफ़ कोई कानून नहीं है क्या? जीवन बीमा की प्रचार में बच्चा कहता दिखता है कि पापा ये पालिसी सही है....मज़ाक बना कर रख दिया है बचपन के भोलेपन का...
जय जय भड़ास

MARKANDEY RAI ने कहा…

jee rupesh jee mai aapake vichar se sat pratishat sahamat hoon. aaj bachhe multinational companies ke jaal me fasate jaa rahe hai... bachpan me hi agar unpar inaka asar pad gaya to jawaani aur budhaapa....
aap samajh rahe hai n mai kya kahana chaah raha hoon.... kuchh to karana hoga... apane level se hi sahi... ek ko bhi bacha liya to satisfaction milega.

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

गन्दा है पर धंधा है ये.....
गुरुवार बाजारवाद सब पर हावी है, और सबसे ऊपर भी. बाजार ने सारे रिश्ते, भावना, आत्मा यान तक कि मान सम्मान तक को बाजार में उतार दिया है.
संडास फार मीडिया का उदाहरण ज्यादा पुराना नहीं.
इस बाजारवाद से आत्मा को बचा कर लाना नि:संदेह हमारी चुनौती है.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP