मुंबई के लोग महाराष्ट्र को जंगल मानते हैं।

गुरुवार, 12 मार्च 2009

मुंबई की लोकल ट्रेन के एक कोच के दरवाजे पर लटक कर यात्रा करने वाले किसी म.न.से. प्रेमी ने जो लिखा है उसे आप भी पढ़िये जिससे पता चलता है कि लोग महाराष्ट्र को जंगल और राज ठाकरे को उस जंगल में शेर मानते हैं। एक मित्र ने ये देख कर बोला कि सचमुच के शेर यदि इस बात को समझ पाते तो शायद शर्म से ही उनकी प्रजाति खत्म हो जाती ये तुलना शेरों के लिये शर्मनाक है।
जय जय भड़ास

2 टिप्पणियाँ:

MARKANDEY RAI ने कहा…

majedaar ... aapane mumbai jase megacity ko jangal bata diya.... aapaki koi galati nahi... raj thaakare jaise log mumbai ko jungle se bhi badtar bana sakate hai...jai....jungle ke raaja

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

भूमिका,
बहुत खूब फोटो लगाया आपने,
देख कर सोचनीय हुआ मगर शहीद उन्नीकृष्णन को याद कर राज...... और ठाकरे..... कोई याद नहीं रहा.
तिरंगे के लिए देश का बेटा आता है, अपनी लिप्सा के लिए कोई भी मुहँ उठा लेता है.
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP