ये चौपाये यात्री कहां जाना चाहते हैं?

सोमवार, 6 अप्रैल 2009

नवी मुंबई के दिल कहे जाने वाले पनवेल रेलवे स्टेशन पर आराम से लेटे ये चौपाये यात्री कहां जाना चाहते हैं। आप देख सकते हैं कि इनके आराम ने खलल न पड़े इस लिये इन खिड़्कियों से टिकट लेने का किसी में साहस नहीं है। रेलवे प्रशासन के अधिकारी भी शायद इनसे डरते हैं।
जय जय भड़ास

4 टिप्पणियाँ:

Manoj dwivedi ने कहा…

Sawal umda hai..lekin aapa ek bat aur hai ki ye kutte soch rahe hain ki ye do pairon wale hamare ilake me kya kar rahe hain..

mark rai ने कहा…

nirih hai bechaare ..hamne jagah hi nahi chhodi ..kahan jaate ..

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

जैनब,
बढिया वर्णन तस्वीरों से.
बधाई

डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) ने कहा…

ज़ैनब आपा ये तो आपने ड्यूटी पर तैनात सुरक्षा कर्मचारियों की जगह ठेके पर काम करने वाले गरीबों की तस्वीर उतार ली है :)मुंबई में सुरक्षा का कमोबेश हर जगह यही हाल है।
जय जय भड़ास

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP