ताज, आतंकवाद और सुरक्षा ???

सोमवार, 6 अप्रैल 2009

खुफिया विभाग और सरकार की माने तो ताज महल आतंकियों के निशाने पर है, दुनिया के इस नायब इमारत और हिन्दुस्तान की शान ताज के प्रति सुरक्षा और व्यवस्था में सरकार, प्रशाशन और पुलिस चौकस है ?
२६ जनवरी का समय था जब हम आगरा में थे सो ताज भी हो आए। प्रेस छायाकार के साथ था सो उन्होंने अपने कार्य को भी अंजाम दिया और मैंने ताज में तफरीह भी कर ली। मगर वहां के हालत और स्थिति को देखते हुए मैंने अपने पत्रकार मित्र से कुछ फोटो लेने का आग्रह किया जिसने व्यवस्था, कानून और कायदा की पोल पट्टी खोलता है।



जहाँ कैमरे को ले जाने की इजाजत नही है वहां फ़िल्म की सूटिंग करती युवती !!!



विडियो कैमरे के साथ अंदर प्रवेश करती युवती, रोकने वाला कोई नही !!!

यानी की जिस इमारत में जाने से पहले आपको अपने सामानों को गेट पर जमा करके अंदर जाना होगा वहां आप बे रोक टोक कुछ भी ले जाते हैं और रोकने वाला कोई नही। अंदर के हाल भी कुछ ऐसे ही थे जहाँ स्थानीय शरारती लोगों का हुजूम विदेशी पर्यटक के साथ बदमाशियां कर रहे थे और उनको देखने के लिए पुलिस का कोई इन्तजाम नही।
नि:संदेह ताज पर खतरा है मगर क्या सरकार हमारी इस अमूल्य धरोहर पर पुरी चाक चौबंद है या फ़िर घटना हो जाने के बाद की खानापूर्ति ही????


2 टिप्पणियाँ:

ज़ैनब शेख ने कहा…

भाईसाहब हर जगह का ही लगभग एक जैसा हाल है मुंबई में आप जहां चाहें वहां कुछ भी हथियार आदि ले जा सकते हैं ये हाल है यहां की सुरक्षा का...
जय जय भड़ास

Manoj dwivedi ने कहा…

Ye sab dikhava hai bas!! jab kuchh ho jata hai tabhi inko furti ati hai.varna ye hote hi hai..SUST-DURUST.

प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। कोई भी अश्लील, अनैतिक, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी तथा असंवैधानिक सामग्री यदि प्रकाशित करी जाती है तो वह प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर हटा दी जाएगी व लेखक सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। यदि आगंतुक कोई आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं तो तत्काल संचालक को सूचित करें - rajneesh.newmedia@gmail.com अथवा आप हमें ऊपर दिए गये ब्लॉग के पते bharhaas.bhadas@blogger.com पर भी ई-मेल कर सकते हैं।
eXTReMe Tracker

  © भड़ास भड़ासीजन के द्वारा जय जय भड़ास२००८

Back to TOP